बिहार के विश्‍वविद्यालयों में दूरस्‍थ शिक्षा कोर्स पर यूजीसी की रोक, केवल नालंदा खुला विवि को मंजूरी

बिहार का कोई भी विश्वविद्यालय अब दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से कोई कोर्स नहीं करा सकेगा। मानक पर खरा नहीं उतरने के कारण इन विश्वविद्यालयों की मान्यता खत्म हो चुकी है। दरअसल, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के दूरस्थ शिक्षा ब्यूरो (डीईबी) ने देशभर में दूरस्थ शिक्षा के लिए मान्य विश्वविद्यालयों व उनके संस्थानों की सूची जारी कर दी है। इसमें बिहार का एक भी विश्वविद्यालय व संस्थान नहीं है। अब तक बिहार में ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय (एलएमएनयू) दरभंगा, बीआरए बिहार विश्वविद्यालय मुजफ्फरपुर, पटना विश्वविद्यालय, मगध विश्वविद्यालय बोधगया से दूरस्थ शिक्षा से विभिन्न तरह के कोर्स कराने की अनुमति थी। सूची में देशभर के 38 विश्वविद्यालय व उनके संस्थानों के नाम हैं।

बिहार की एकमात्र ओपेन यूनिवर्सिटी नालंदा खुला विश्वविद्यालय (एनओयू) को भी शैक्षणिक सत्र 2022-23 तक पढ़ाई कराने की अनुमति दी गई है। इसके बाद पढ़ाई जारी रखने के लिए डीईबी से अनुमति लेनी होगी। एलएनएमयू को वर्ष 2018-19 से 2019-20 तक मान्यता दी गई थी। वह भी अब समाप्त हो गई है। बीआरए बिहार विवि मुजफ्फरपुर के कुलपति और एनओयू के प्रभारी कुलपति प्रो. हनुमान प्रसाद पांडेय ने बताया कि बीआरए बिहार विश्वविद्यालय में दूरस्थ शिक्षा बंद हो चुकी है। पूरी जानकारी सरकार को भेज दी गई है। नालंदा खुला विश्वविद्यालय अब नालंदा में मार्च तक शिफ्ट कर दिया जाएगा।

किसी भी विश्वविद्यालय में दूरस्थ शिक्षा निदेशालय चलाने के लिए नैक से ए ग्रेड की मान्यता जरूरी है। निदेशालय के नियमित संचालन के लिए नैक से मिलने वाले ग्रेड के अंक 3.26 सीजीपीए होना अनिवार्य है। इसके होने के बाद ही यूजीसी के दूरस्थ शिक्षा ब्यूरो से किसी भी विवि को किसी प्रकार का कोर्स कराने की अनुमति दी जा सकती है। वर्तमान में राज्य के किसी भी विश्वविद्यालय को नैक से ‘ए’ ग्रेड नहीं प्राप्त है। यूजीसी के डीईबी की वेबसाइट पर जारी सूची में 38 विश्वविद्यालयों की लिस्ट है। इनमें सबसे अधिक 11 विश्वविद्यालय तमिलनाडु के हैं। इसके अतिरिक्त आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, महाराष्ट्र, हरियाणा, पंजाब, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, मिजोरम, तमिलनाडु, तेलंगाना और राजस्थान के विश्वविद्यालय व संस्थान शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *