TWIN TOWER जमींदोज LIVE : ताश के पत्‍तों की तरह भरभराकर गिरी 32 मंजिला इमारत, आसमान में उठा धूल का गुबार, लोग बोले- ऐसा लगा जैसे धरती फटी और बिल्डिंग समा गई हो

Generic placeholder image
  लेखक: हेडलाइंस डेस्क

 नोएडा। सेक्टर-93ए में बने 103 मीटर ऊंचे ट्विन टावर को कुछ ही पलों में गिरा दिया गया। एक के बाद हुए धमाके से 32 मंजिला इमारत जमींदोज हो गई। बताया जा रहा है कि यह इमारत कुतुब मीनार से भी ऊंची थी। ऐसी घटना देश में पहली बार हुई लिहाजा समूचे देश की निगाहें इस घटना पर टिकी थी। कि कैसे भ्रष्टाचार की बुनियाद पर खड़ी इमारत पल भर में मिटटी में मिल गई।

3700 किलो बारूद से धराशायी इमारत
टिवन टॉवर में ब्‍लास्‍ट के लिए इमारत में करीब 9640 छेद किए गए थे। इसमें तकरीबन 3700 किलो विस्फोटक यानि बारूद फिट किया गया था। एक के बाद  एक हुए धमाकों के 32 मंजिल इमारत फिल्‍मी स्‍टाइल में जमींदोज हो गया।

ऐसा लगा जैसे धरती हिल गई
टिवन टॉवर के आसपास हालांकि, लोगों की आवाजाही को पूरी तरह से रोक दिया गया था। फिर भी लोग दूर दराज की बिल्डिंगों से जमीदोंज होने का नजारा अपने मोबाइल में कैद कर रहे थे। इसके अलावा आसपास के इलाकों की छतों पर मीडिया के कैमरे मानों हर पल को कैद करने के लिए उतावले थे। लोगों ने कहा कि जैसे ही यह धमाका हुआ ऐसा लगा मानों धरती हिल गई। वहीं, इमारत को जमीदोंज होते हुए देखना मानों ऐसा लग रहा था कि कोई हॉलीवुड मूवी का सीन देख रहे हों। कि एक पल में गगनचुंबी इमारत जमींदोज हो जाती है।

एक धमाका और धूल का गुबार छा गया
टिवन टॉवर को गिराने के लिए जैसे ही धमाका हुआ, वैसे ही एक पल में आसपास धूल और मिटटी का गुबार छा गया। मलबे के छोटे छोटे कण आसमान में फैल गए। हालांकि, नोएडा अथोरिटी की ओर प्रदूषण को रोकने के लिए स्‍मॉग गन की व्यवस्‍था की थी। धमाकों की आवाज के साथ स्‍मॉग गन और फायर ब्रिगेड भी तुरंत एक्टिव हो गई। ताकि आसमान में उड़ रहे धूल के गुबार को रोका जा सके।

फोटो सेशन कराने के लिए पहुंचे लोग
एक ओर प्रशासन के लोग ध्‍वस्‍तीकरण की तैयारियों में जुटे थे। तो वहीं दूसरी ओर आम लोग सोशल मीडिया मैटेरियल तैयार करने के लिए फोटो सेशन कराने पहुंच रहे थे। हालांकि, पुलिस ने सभी को वहां से हटाया।

तीन मंजिल के बराबर मलबा
अधिकारियों के मुताबिक धमाकों के बाद करीब 28 हजार मीट्रिक टन मलबा निकला है। जोकि करीब तीन मंजिल इमारत के बराबर है। ऐसे में मानकों के अनुसार उसका निस्‍तारण होगा। नोएडा के सेक्टर-80 स्थित सी एंड डी वेस्ट प्रोसेसिंग प्लांट में वैज्ञानिक पद्धति से मलबा निस्तारित होगा। बाकी मलबा टावर के बेसमेंट में और एक गांव में गहरे गड्ढे में पहुंचाया जाएगा।

Twin Tower Twin tower Noida Headlines India Twin Tower Demolition Noida Authority

Comment As:

Comment (0)