एक तरफ से झुक गया बिहार-यूपी को जोड़ने वाला सीवान का दहा नदी पुल, सभी प्रकार के वाहनों का परिचालन बंद

बिहार यूपी सहित कई जिलों को जोड़ने वाला सीवान का लाइफ लाइन कहे जाने वाला दहा नदी पर बना पुल (Daha River Bridge Siwan) महज 10 साल में ही क्षतिग्रस्त हो गया. इस पुल पर परिचालन पूर्ण रूप से बंद कर दिया गया है. बाइक सहित किसी भी वाहन का प्रवेश वर्जित कर दिया गया है. सीवान डीएम अमित कुमार पांडेय (Siwan DM Amit Kumar Pandey) के आदेश के बाद इस पुल पर किसी भी वाहन,  दोपहिया या चारपहिया वाहनों का परिचालन पूर्ण रूप से बंद कर दिया गया है. बता दें कि एक सप्ताह पहले ये पुल झुक गया था जिसको देखते हुए इस पुल पर जिला प्रशासन ने भारी वाहनों का परिचालन बंद कर दिया था. आज अचानक यह पुल एक तरफ झुक गया और पुल में दरार आ गयी. जिसके बाद इस पुल पर कोई हादसा न हो इसको देखते हुवे सीवान डीएम के आदेश के बाद इस पुल पर किसी भी वाहन का प्रवेश वर्जित कर दिया गया. पुल के दोनों तरफ बैरीकेटिंग कर दी गई है.

अब यूपी गोपालगंज सहित तमाम जिलों से जो लोग सीवान आएंगे उन्हें पटना या फिर यूपी की तरफ आना होगा. स्टेट हाइवे या दरोगा राय कॉलेज होते हुए सीवान रेलवे स्टेशन के रूट को डायवर्ट कर दिया गया है. जो लोग यूपी की तरफ या गोपालगंज तरफ से आएंगे, उन्हें स्टेट हाईवे या दरोगा राय कॉलेज होते हुए सीवान स्टेशन से आवागमन करना होगा. यह पुल बंद हो जाने से स्थानीय लोगों को सीवान शहर में आने जाने के लिए अब काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. शहर में आने के लिए लंबी दूरी तय करनी पड़ रही है. स्थानीय लोगों की मांग है कि इस नदी पर पीपा पुल या फिर कोई अल्टरनेट व्यवस्था की जाए ताकि स्थानीय लोगों को आने-जाने में सहूलियत हो. वहीं महज 10 वर्षों में करोड़ों की लागत से बन यह पुल क्षतिग्रस्त हो जाने पर लोग सवाल खड़ा कर रहे हैं और कह रहे हैं कि आखिर अंग्रेजों द्वारा बनाया गया पुल कई वर्षों तक चला और यह पुल जिसे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 2011 में उद्घाटन किया था इतना जल्द टूट कैसे गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *