तेजस्वी ने सदन में कहा- “कैसे-कैसे लोग मंत्री बन जाते हैं”

Spread the love

बिहार विधानसभा में आए दिन हंगामा होता रहता है। पिछले दिन हुए बजद सत्र के दौरान सदन के अदंर परिस्थिति मार-पीट और गाली-गलौज तक पहुँच गई थी। बता दें, पक्ष और विपक्ष के नेता आपस में भीड़ गए थे। वहीं, आज एक बार फिर विधानसभा कार्यवाही के दौरान भारी प्रर्दशन देखने को मिला। दरअसल, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के पहले सवाल से ही सदन में बावल मच गया। आपाको बता दें, सत्ता पक्ष के तरफ से जो जबाव सामने आया उससे तेजस्वी यादव असंतुष्ट थे और बार-बार सरकार से सवाल दाग रहे थे। जिसका परिणामस्वरुप उनकी सत्ता पक्ष के विधायकों से बहस हो गई। आपको बताए, तेजस्वी ने यहाँ तक कह दिया कि कैसे-कैसे लोग मंत्री बन जाते हैं। जिसपर सदन में हंगामा खड़ा हो गया।

दरअसल शोर-शराबे के बीच तेजस्वी यादव सवाल पूछ रहे थे। आवाज इतनी ज्यादा थी कि मंत्री प्रमोद कुमार सवाल नहीं सुन पा रहे थे। जिस पर तेजस्वी यादव उन्हें हेड फोन लगाने के लिए कह रहे थे,लेकिन जब प्रमोद कुमार नहीं समझे जिस पर तेजस्वी यह कह दिया है कि कैसे-कैसे लोग मंत्री बन जाते हैं। नेता प्रतिपक्ष की टिप्पणी बीजेपी को रास नहीं आई जिसके बाद सदन में बीजेपी के सभी विधायक खड़े होकर जोर-जोर से तेजस्वी के ऊपर अपनी नाराजगी जताने लगे। डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद ने तेजस्वी के बयान को आपत्तिजनक बताते हुए कहा कि सदन में इस तरह की गलत परिपाटी शुरू की जा रही है। नेता प्रतिपक्ष को कोई अधिकार नहीं कि वह तय करें कि कौन मंत्री बनेगा और कौन नहीं। मंत्रियों के ऊपर उनकी टिप्पणी अशोभनीय है। डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद आज सदन के अदंर तेजस्वी यादव पर जमकर बरसे।

विपक्ष ने बीजेपी के कड़े तेवर को देखते हुए सदन से वाकआउट कर दिया। विपक्ष का आरोप था कि सदन में सवालों का जवाब सरकार की तरफ से नहीं दिया जा रहा और सदन दूसरे सवाल की तरफ आगे बढ़ जा रहा है। तेजस्वी यादव के साथ आरजेडी के सभी विधायक सदन से बाहर आ गए। इस दौरान बीजेपी के वरिष्ठ नेता और विधायक नंदकिशोर यादव ने तेजस्वी के बयान पर कड़ी आपत्ति जताई। विधानसभा अध्यक्ष विपक्ष के वाकआउट के बाद इस मामले को बताते हुए कहा कि इस तरह का बयान सदन में नहीं दिया जाना चाहिए। तो वहीं, विपक्ष की गैरमौजूदगी में प्रश्न उत्तर काल की कार्यवाही आगे जारी रही।

ब्रेक के बाद सदन में एक बार फिर से कार्यवाही शरु होगी। बाहारहाल,अब ये देखना अहम होगा कि सदन में किस तरह से विपक्ष सत्ता पक्ष को घेरेगी। सत्तारुढ़ की ओर से क्या कुछ जबाव सामने आएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.