तेजस्वी यादव का बड़ा हमला, CM नीतीश के जनता दरबार का खेल तेजस्वी ने किया उजागर, कहा-सब ढकोसला है

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भले ही 5 साल के अंतराल के बाद जनता दरबार कार्यक्रम का सिलसिला फिर से शुरू किया हो. लेकिन जनता दरबार का बदला हुआ स्वरूप विपक्ष के नेताओं को नहीं हजम हो रहा. जनता दरबार कार्यक्रम में जिस तरह फरियादियों को लाया जा रहा और फिर मुख्यमंत्री उनकी बात सुनने के बाद वापस फरियादियों को अधिकारियों के पास भेज रहे हैं. उसे लेकर तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर बड़ा हमला बोला है. तेजस्वी ने कहा है कि जिसके ऊपर आरोप लगे हो उसी को जांच का जिम्मा मुख्यमंत्री दे रहे हैं. ऐसे में इंसाफ की उम्मीद बेईमानी है. जनता दरबार के मौजूदा सिस्टम पर तंज कसते हुए कहा है कि बिल्ली दूर की रखवाली कैसे कर सकती है.

सोमवार को मुख्यमंत्री के जनता दरबार कार्यक्रम में पहुंची एक महिला ने अपने पति की हत्या का आरोप जेडीयू विधायक के ऊपर लगाया. महिला ने कहा कि जनता दल यूनाइटेड के विधायक रिंकू सिंह ने उनके पत्नी की हत्या कराई. वह इस मामले में नामजद आरोपी हैं लेकिन पुलिस कोई भी कार्रवाई नहीं कर रही है. इस मामले को लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बड़ा जनता दरबार कार्यक्रम और सीएम नीतीश की कार्यशैली को लेकर बड़ा सवाल किया है. तेजस्वी ने कहा कि जिन पुलिसवालों के ऊपर आरोप लगा रहा है. मुख्यमंत्री मामले को सुलझाने के लिए भी उसी पुलिसवालों के पास पीड़िता को भेज रहे हैं. ऐसे में इंसाफ की उम्मीद बेईमानी है.

मंगलवार को तेजस्वी यादव ने ट्वीट करते हुए लिखा कि “नीतीश जी के जनता दरबार के ढकोसले. पहली बात कि पूर्व ज़िला पार्षद की हत्या के नामजद आरोपी जदयू विधायक रिंकू सिंह पर 7 महीने में कोई कार्रवाई नहीं हुई. सीएम के निर्देश पर पुलिस ने उसे बचाया. और दूसरी बात ये है कि उनकी पत्नी सीएम के जनता दरबार में पहुँची और मुख्यमंत्री ने पीड़ित विधवा महिला को फिर उसी पुलिस के पास भेज दिया. क्रोनोलॉजी समझिए.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *