तेजप्रताप बोले-जगदा बाबू मेरे चैंबर में मिलने आ जाते तो कोई दिक्कत था? भतीजे से मुलाकात हो जाती

चार दिन पहले तक जगदानंद सिंह हिटलर थे औऱ उनसे तेजप्रताप यादव को जान का खतरा था। ये हम नहीं कह रहे हैं बल्कि तेजप्रताप यादव कह चुके हैं। लेकिन आज वे फिर से अंकल हो गये। तेजप्रताप यादव ने खुद जगदानंद सिंह का भतीजा करार दिया। दरअसल आज दिन में राजद ऑफिस में ड्रामा हुआ था। तेजप्रताप यादव पार्टी ऑफिस पहुंच गये थे। उसी समय जगदानंद सिंह भी अपने चेंबर में बैठे थे। तेजप्रताप और जगदानंद सिंह के बीच का विवाद जगजाहिर है। खबर ये आयी कि तेजप्रताप यादव ने जगदानंद सिंह को मैसेज भिजवाया कि वे आकर उनसे मिलें। लेकिन गुस्से में लाल हुए जगदानंद सिंह पार्टी ऑफिस से निकल कर घर चले गये। थोड़ी देर बाद तेजप्रताप यादव भी पार्टी ऑफिस से रवाना हो गये।

मीडिया से बात करते हुए तेजप्रताप यादव ने कहा कि जगदा बाबू अगर दो मिनट के लिए मेरे चेंबर में आ जाते तो दिक्कत था। भतीजे से मुलाकात औऱ बात हो जाती। यानि चार दिन पहले के हिटलर जगदानंद सिंह आज तेजप्रताप के चाचा हो गये। तेजप्रताप ने जगदानंद सिंह के बारे में मीडिया के सामने और कुछ नहीं कहा। तेजप्रताप यादव ने कहा कि वे कार्यकर्ताओं के सम्मान की लड़ाई लड रहे हैं और आगे भी लड़ते रहेंगे. उनका काम रूकने वाला नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *