बिना वैक्सीन नहीं दे पाएंगे बोर्ड एग्जाम!, एडमिट कार्ड के लिए स्कूल मांग रहे वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट

Spread the love

बिहार सरकार के एक आदेश से स्टूडेंट्स में बड़ा कंफ्यूजन है। सरकार का आदेश है कि बिना वैक्सीन वाले स्टूडेंट्स एग्जाम में शामिल नहीं होंगे। अब कंफ्यूजन 14 से 15 वर्ष के स्टूडेंट्स को है, जो इस बार मैट्रिक का एग्जाम देंगे। अब तक उनके लिए कोई गाइडलाइन नहीं है और न ही वैक्सीन है। ऐसे में स्कूल के साथ स्टूडेंट्स भी असमंजस में हैं। कई स्कूल वैक्सीन का प्रमाण पत्र लिए बगैर एडमिट कार्ड भी नहीं दे रहे हैं। कुछ स्कूल तो एडमिट कार्ड दे रहे हैं, लेकिन बिना वैक्सीन वाले 14 से 15 वर्ष तक के स्टूडेंट्स एग्जाम दे पाएंगे या नहीं, यह स्कूलों को भी पता नहीं है।

इंटर के छात्रों को तो विशेष समस्या नहीं है क्योंकि उनकी उम्र 15 वर्ष से ऊपर है। ऐसे स्टूडेंट्स को वैक्सीन लेने में भी कोई समस्या नहीं है। स्कूल उनसे वैक्सीनेशन के प्रमाण पत्र के साथ अन्य डाक्यूमेंट्स लेकर उन्हें एडमिट कार्ड दे सकता है। ऐसे बच्चे जो वैक्सीन नहीं लिए हैं उन्हें स्कूल से एडमिट कार्ड दिए बगैर वैक्सीनेशन सेंटर भेज दिया जा रहा है। लेकिन जिनकी उम्र 15 साल नहीं हुई है उन्हें स्कूल के साथ वैक्सीनेशन सेंटर से भी वापस कर दिया जा रहा है। ऐसे बच्चे और उनके गार्जियन बिहार बोर्ड के एग्जाम को लेकर कंफ्यूजन की स्थिति में हैं।

स्कूलों का कहना है कि वह सरकार के आदेश का पालन कर रहे हैं। सरकार ने आदेश में कहा है कि बिना वैक्सीन वाले स्टूडेंट्स परीक्षा में शामिल नहीं होंगे। ऐसे में जो प्रमाण पत्र नहीं ला रहे हैं उन्हें एडमिट कार्ड ही नहीं दिया जा रहा है। लेकिन, कुछ स्कूल ऐसे हैं जो बच्चों के भविष्य को देखते हुए एडमिट कार्ड जारी कर दे रहे हैं।

पटना के मिलर हाई स्कूल की प्रिंसिपल लीलावती कुमारी का कहना है कि अब तक 14 से 15 वर्ष तक के बच्चों के लिए कोई गाइडलाइन नहीं है। हम इसका इंतजार कर रहे हैं, बच्चों के भविष्य की बात है इसलिए एडमिट कार्ड भी दिया जा रहा है। अब उन्हें एग्जाम देना है या नहीं इसका आदेश जारी होगा। प्रिंसिपल का कहना है कि इस संबंध में सरकार का स्पष्ट आदेश होना चाहिए बिना वैक्सीन वाले बच्चों का एग्जाम कैसे होगा।

मिलर स्कूल में एडमिट कार्ड वितरण में लगे विजय कुमार का कहना है कि एडमिट कार्ड के लिए वैक्सीनेशन प्रमाण पत्र लिया जा रहा है और जो बिना वैक्सीन के आ रहे हैं उन्हें वैक्सीनेशन के लिए सेंटर भेजा जा रहा है। अब 14 से 15 वर्ष वालों के लिए समस्या है। अब तक कोई गाइडलाइन नहीं है, परीक्षा के समय हो सकता है व्यवस्था बदली जाए। स्टूडेंट्स के भविष्य का मामला है, इस पर पहले ही आदेश आ जाना चाहिए। मैट्रिक के स्टूडेंट सौरभ ने बताया कि वह वैक्सीन ले चुके हैं इससे उन्हें एडमिट कार्ड मिल गया है। गौरव का कहना है कि वैक्सीन लेने के बाद ही एडमिट कार्ड दिया गया है।

एडमिट कार्ड के लिए स्कूल की डिमांड

वैक्सीन का फर्स्ट डोज का प्रमाण पत्र

डमी एडमिट कार्ड

आधार कार्ड

बैंक पासबुक की फोटो कॉपी

मोबाइल नंबर के साथ स्टूडेंट्स की पूरी जानकारी

हर स्कूल में मैट्रिक के क्लास में ऐसे स्टूडेंट्स हैं जो 14 से 15 वर्ष के हैं। वह वैक्सीन नहीं ले सकते हैं क्योंकि उनके लिए अभी कोरोना की वैक्सीन ही नहीं है। इंटर के स्टूडेंट्स की उम्र तो वैक्सीनेशन के लिए है लेकिन मैट्रिक में ऐसे स्टूडेंट्स हर स्कूल में अधिक संख्या में हैं जो 15 वर्ष के नहीं हुए हैं। कोविन पोर्टल में अगर किसी स्टूडेंट्स की उम्र 15 साल में 15 दिन भी कम है तो उसे वैक्सीन की डोज नहीं दी जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *