पप्पू यादव पर हुई FIR के खिलाफ PUSU President मनीष यादव का धरना प्रदर्शन

Spread the love

जन अधिकार पार्टी के नेता पप्पू यादव पर हुई FIR का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है। PUSU President और छात्र नेता मनीष यादव ने जाप सुप्रीमो पर हुई FIR के खिलाफ अपने साथियों के साथ प्रदर्शन किया इस मामले पर उन्होंने बिहार सरकार पर सवाल खड़े किये हैं मनीष यादव ने कहा कि खाली पड़ी एम्बुलेंसों का दुरूपयोग किया जा रहा है जो भाजपा के नेताओं की कुंठित मानसिकता को दर्शाता है। मनीष यादव ने बीजेपी के पूर्व केंद्रीय मंत्री, राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव प्रताप रूडी के खिलाफ मुकदमे की भी मांग की है उनका आरोप है कि उनके द्वारा एम्बुलेंसों का सही वक्त पर उपयोग नहीं किया गया जिससे हजारों लोगों की जान गई। उन्होंने पप्पू यादव के खिलाफ हुई FIR का भी पुरजोर विरोध किया है।
इससे पहले जाप के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व सांसद पप्पू यादव पर बिहार के छपरा जिले के अमनौर थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई थी सुरक्षा गार्डों ने बताया था कि उन्होंने पप्पू यादव रोकने की पूरी कोशिश की लेकिन जाप सुप्रीमो धक्का-मुक्की कर परिसर में घुस गए थे।

एफआईआर में कही गई ये बात-

बता दें कि एम्बुलेंस संचालक राजन सिंह ने अमनौर थाने में एफआईआर दर्ज कराई है.एफआईआर में उन्होंने कहा कि जाप सुप्रीमो पप्पू यादव लगभग 50 लोगों के साथ संपूर्ण लॉकडाउन काल में राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइंस का उल्लंघन करते हुए बिना किसी अनुमति के विश्वप्रभा समुदायिक केंद्र में घुसे और परिसर में सुरक्षित रखे गए पंचायत एंबुलेंस को समर्थकों के साथ मिलकर क्षतिग्रस्त कर दिया।

क्या है पूरा मामला ?

बता दें कि जन अधिकार पार्टी के नेता पप्पू यादव छपरा के अमनौर स्थित राजीव प्रताप यादव रुडी की मां के नाम पर बने सामुदायिक भवन पहुंचे थे, जहां उन्होंने बेकार खड़ी दर्जनों एंबुलेंस को देखकर आक्रोश जताते हुए कहा था कि अभी जिस तरह का माहौल है, ऐसे में एंबुलेंस की जरूरत है. लेकिन यहां ये धूल खा रही हैं पप्पू यादव ने ट्वीट कर लिखा था कि “ बीजेपी के पूर्व केंद्रीय मंत्री राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव प्रताप रूडी जी के अमनौर स्थित कार्यालय परिसर में दर्जनों एंबुलेंस बरामद! सांसद विकास निधि से खरीदा गया एम्बुलेंस किसके निर्देश पर यहां छिपाकर रखा गया है, इसकी जांच हो. सारण डीएम, सिविल सर्जन यह बताएं! BJP जवाब दे!

Leave a Reply

Your email address will not be published.