JDU विधायक गोपाल मंडल पर केस करने वाला पारस और सूरजभान सिंह का करीबी, दलित सेना के राष्ट्रीय सचिव हैं प्रह्लाद पासवान

तेजस ट्रेन में अंडरवियर और बनियान में घूमते देख जेडीयू विधायक को टोकने वाले प्रह्लाद पासवान इन दिनों खूब सुर्खियों में हैं। जेडीयू विधायक गोपाल मंडल अपने विवादित बयानों और क्रियाकलापों के कारण हमेशा सुर्खियों में छाए रहते हैं। लेकिन इस बार गोपाल मंडल प्रकरण को लेकर सबसे ज्यादा चर्चा प्रह्लाद पासवान ने बटोरी है।

प्रह्लाद पासवान ने गोपाल मंडल के ऊपर जो केस दर्ज किया उसके बाद वह लगातार मीडिया में बयान भी दे रहे हैं। घटना के अगले दिन प्रह्लाद की पहचान भले ही उजागर नहीं हो पाई हो लेकिन अब धीरे-धीरे लोगों को मालूम पड़ा है कि दरअसल गोपाल मंडल जिसकी वजह से मुसीबत में गिरे हैं। वह कोई और नहीं बल्कि पूर्व सांसद सूरजभान सिंह के करीबी हैं। पूर्व सांसद सूरजभान सिंह के साथ हमेशा देखे जाने वाले प्रह्लाद पासवान उनके स्टाफ के तौर पर काम कर चुके हैं। हालांकि इस वक्त वह दलित सेना के राष्ट्रीय सचिव हैं।

प्रह्लाद पासवान इन दिनों एलजेपी पारस खेमे में मौजूद थे। दरअसल अपने नेता सूरजभान सिंह के पशुपति पारस के साथ होने की वजह से प्रह्लाद भी पशुपति पारस के खेमे से जुड़े हुए हैं। उन्हें दलित सेना का राष्ट्रीय सचिव बनाया गया है। पिछले दिनों पशुपति कुमार पारस जब पटना आए थे तो प्रह्लाद पासवान भी उनकी स्वागत में मौजूद रहे थे। प्रह्लाद पासवान को पहचानने वाले लोगों को अच्छे से मालूम है कि वह सूरजभान सिंह और उनके परिवार के कितने करीब हैं। ऐसे में अब यह बात साफ होती दिख रही है कि जेडीयू विधायक गोपाल मंडल को अंडरवियर बनियान में घूमता देख टोकने वाला कोई मामूली व्यक्ति नहीं बल्कि राजनीतिक रसूख रखने वाला शख्स था।

प्रह्लाद पासवान के सोशल मीडिया अकाउंट पर नजर डालें तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस के साथ तक उसने अपनी तस्वीरें साझा कर रखी हैं। ऐसे में इस बात की संभावना भी कम दिखती है कि वह जेडीयू के विधायक के गोपाल मंडल को नहीं पहचानते थे। गोपाल मंडल हमेशा सुर्खियों में बने रहते हैं। यह मानना थोड़ा मुश्किल लगता है कि राजनीति के गलियारे में सक्रिय कोई व्यक्ति गोपाल मंडल को नहीं पहचानता हो। हालांकि पह्लाद पासवान ने जेडीयू विधायक के ऊपर जो पोस्ट किया है। उसमें उनके साथ लूटपाट के साथ-साथ गाली-गलौज तक के आरोप लगाए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *