बम ब्लास्ट पर सियासत, बीजेपी सांसद ने मदरसों की शिक्षा व्यवस्था पर उठाया सवाल तो जदयू-हम ने पागल बोला

इस समय राजनीतिक गलियारे से बड़ी खबर सामने आ रही है। दरभंगा स्टेशन पर पार्सल बम बलास्ट पर राजनीति शुरु हो गई है। NDA के घटक दल आपस में उलझ गए हैं। एक-दूसरे के खिलाफ बयानबाजी कर रहे है। दरअसल, मुजफ्फरपुर के भाजपा सांसद अजय निषाद ने दरभंगा पार्सल बम ब्लास्ट, बांका और सीवान ब्लास्ट के बहाने मदरसे और उसे संचालित करने वाले मौलवी को निशाने पर लिया है। कहा कि मदरसों में युवाओं को गुमराह करने वाली धार्मिक शिक्षा दी जाती है। सांसद ने कहा कि कम पढ़े-लिखे युवाओं को इस्लाम के नाम पर गुमराह करने के साथ-साथ उनका शोषण किया जाता है। सांसद के इस बयान के बाद जदयू और हम के अल्पसंख्यक नेताओं ने ताबातोड़ हमला करना शुरू कर दिया है। जदयू ने मानसिकता पर सवाल उठाया तो हम ने सीधे पागल ही कह दिया। वहीं, RJD भाजपा की मंशा पर सवाल उठा रहा है।

जदयू के MLC गुलाम रसूल बलियावी ने अजय निषाद के बयान पर घोर आपत्ति जताई और कहा कि जिन्होंने कभी मदरसा देखा नहीं, मदरसे का इतिहास पढ़ा नहीं, वह क्या जाने कि वहां क्या पढ़ाई की जाती है? ऐसी मानसिकता के लोगों ने देश की आजादी की लड़ाई में हिस्सा नहीं लिया, वे मदरसों के इतिहास के बारे में क्या जानें? उन्होंने कहा कि विवादित बयान देने से अच्छा है देश में विकास की चर्चा करें। बलियावी ने किसी का नाम तो नही लिया लेकिन इशारों इशारों में BJP और BJP MP को घसीट लिया। इसके बाद NDA के दूसरे घटक दल HAM के राष्ट्रीय प्रवक्ता दानिश रिजवान ने किसी का नाम तो नहीं लिया। लेकिन मानसिकता पर सवाल उठाते हुए कहा कि उन्हें पागलखाने जाना चाहिए। दानिश ने कहा कि एक-दो घटना हो जाने के बाद पूरी कम्यूनिटी को उस नजर से नहीं देखनी चाहिए। मदरसा से कई शिक्षाविद, लेखक, साहित्यकार, सेनानी निकले हैं। उसे ऐसे बदनाम करना उचित नहीं है। इस मामले की जांच हो रही है। कुछ लोग ऐसे बयाान देकर समाज में अशांति फैलाना चहते है उनको अपने दिमाग का इलाज पागलखाने में कराना चाहिए। इस पर RJD के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि BJP MP ने साबित कर दिया है कि BJP के खाने के दांत अलग और दिखाने के दांत अलग है। देश जितना हिन्दुओं का है उतना ही मुसलमानों का है, लेकिन, ये BJP वाले लोग इन्हें बांटना चाहते है। हर घटना में ये अपनी राजनीतिक रोटी सेंकने लगते हैं। ये इनकी पुरानी आदत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *