पार्टी तोड़ी नहीं बचाई है- पशुपति कुमार पारस

लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) में चिराग को छोड़ अन्‍य सभी पांच सांसदों की बगावत के बाद पैदा हुए हालात पर पशुपति कुमार पारस ने चुप्‍पी तोड़ते हुए इसे मजबूरी का फैसला बताया। उन्‍होंने कहा कि पार्टी तोड़ी नहीं पार्टी बचाई है।हाजीपुर से पार्टी के सांसद और केंद्रीय मंत्री रहे स्‍व.रामविलास पासवान के भाई पशुपति कुमार पारस ने एक अख़बार से एक्‍सक्‍लूसिव बातचीत में कहा कि हम घुटन महसूस कर रहे थे। आठ अक्‍टूबर 2020 को रामविलास पासवान के निधन के बाद पार्टी नेतृत्‍व ने कुछ ऐसे फैसले लिए जिनकी वजह आज पार्टी इस कगार तक आ पहुंची। पार्टी के विलुप्‍त होने का खतरा पैदा हो गया।उन्‍होंने कहा कि हमने लोकसभा स्‍पीकर ओम बिड़ला से मिलकर उन्‍हें ताजा घटनाक्रम के बारे में एक पत्र सौंपा है।’ पशुपति कुमार पारस के अलावा चिराग पासवान से बगावत करने वाले सांसदों में उनके चचेरे भाई प्रिंस राज (लोजपा के प्रदेश अध्‍यक्ष और समस्‍तीपुर से सांसद), चंदन सिंह , महबूब अली केशर और वीणा देवी शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *