शादी के दूसरे दिन नाबालिग बता लड़की को ससुराल से उठाया, 3 दिन थाने में रखा, पति धरने पर बैठा तो कोर्ट भेजा

बेगूसराय के बलिया में पुलिस पर गंभीर आरोप लगा है। बलिया थाने में बीते तीन दिनों से शादीशुदा लड़की नजमुन निशा को पुलिस ने हिरासत में रखा था। मामला प्रेम-प्रसंग से जुड़ा है। लड़की की शादी 24 जून को बेगूसराय में ही मो. सोनू अहमद से हुई थी। पुलिस उसे नाबालिग बताकर 25 जून को थाने ले आई। इस मामले में लड़की के पति और उसके परिवार ने मंगलवार को बलिया थाने पर हंगामा कर दिया। इसके बाद पुलिस ने लड़की को देर शाम बेगूसराय सिविल कोर्ट में पेश किया। सिविल कोर्ट में ACJM-1 राजीव कुमार के सामने लड़की ने कहा कि वह कानूनी तौर पर बालिग़ है और अपने पति के साथ रहना चाहती है। कोर्ट ने सभी कागजात देखने के बाद पुलिस को निर्देश दिया कि उसे बाइज्जत जहां जाना हो, जाने दिया जाए। इसके बाद बलिया थाना पुलिस लड़की को अपने गाड़ी से लेकर थाने चली गई।

नजमुन निशा के पति मो. सोनू अहमद के वकील एसई अहमद के अनुसार पुलिस ने गलत तरीके से FIR दर्ज की है। पहले तो लड़की को 25 जून से उसके ससुराल से उठाकर ले गई। फिर लड़की के भाई द्वारा 26 जून को दिए आवेदन को 28 जून का बनाकर FIR दर्ज की। इसके बाद आज 29 तारीख को लड़की की बरामदगी दिखाई है। वकील का यह भी कहना है कि पुलिस अभी भी लड़की पर उसके पैतृक घर (धनबाद) चले जाने का दबाव बना रही है। उसे डराया-धमकाया जा रहा है, जो कि बिलकुल ही गलत है। पति सोनू अहमद के अनुसार, पुलिस उनकी गैरमौजूदगी में 25 जून को घर पहुंची और नजमुन निशा को उठाकर ले गई। जब वे लोग थाने पहुंचे तो पुलिस ने न कोई कारण बताया, न ही कोई सवाल का जवाब दिया। 3 दिन बीत जाने के बाद वो अपनी पत्नी की रिहाई के लिए आज बलिया थाने में धरना पर बैठ गए। इस बीच पत्नी को घर से थाने लाने वाले एएसआई इम्तियाज ने उसे छोड़ने के लिए एक लाख रुपए की भी मांग की। इस पूरे घटनाक्रम पर बलिया थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हुए। उन्होंने सीधा कहा कि वरीय अधिकारियों से बात कीजिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *