नई शिक्षा नीति के जरिए नए भविष्य का होगा निर्माण- मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि बीते एक वर्ष में राष्ट्रीय शिक्षा नीति को धरातल पर उतारने में कोरोना काल में शिक्षकों ने काफी मेहनत की है. पीएम मोदी राष्ट्रीय शिक्षा नीति के एक साल पूरा होने पर गुरूवार को कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना काल में भी शिक्षा नीति पर काफी काम हुआ है. उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति के जरिए नया भविष्य बनेगा. बता दें कि नई शिक्षा नीति 2020 पर आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ ही शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान भी मौजूद रहे नई शिक्षा नीति को एक साल पहले आज के दिन ही लागू किया गया था. इससे पहले, 34 साल पुरानी शिक्षा नीति में बदलाव किया गया था धर्मेन्द्र प्रधान ने इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि इस शिक्षा नीति के तहत भारत वैश्विक शक्ति बनेगा नई शिक्षा नीति के तहत केंद्र व राज्य सरकार के सहयोग से शिक्षा क्षेत्र पर देश की जीडीपी के 6 प्रतिशत हिस्से के बराबर निवेश का लक्ष्य रखा गया है. नई शिक्षा नीति के अंतर्गत ही ‘मानव संसाधन विकास मंत्रालय’ का नाम बदल कर ‘शिक्षा मंत्रालय’ करने को भी मंज़ूरी दी गई थी नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में स्कूली पढाई से लेकर उच्च शिक्षा तक कई बदलाव किए जाने का प्रस्ताव रखा गया है जिसका मुख्य उद्देश्य बच्चों का पूर्ण रूप से विकास और उन्हें विश्व स्तर पर सशक्त बनाना है.नई शिक्षा नीति में स्कूल शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक कई बड़े बदलाव किए गए हैं. पहली बार मल्टीपल एंट्री और एग्जिट सिस्टम लागू किया गया है. इससे उन छात्रों को बहुत फ़ायदा होगा जिनकी पढ़ाई बीच में किसी वजह से छूट जाती है. जब प्रधान ने शिक्षा मंत्री का पद संभाला था तब उन्होंने कहा था कि उनका ध्यान राष्ट्रीय शिक्षा नीति के उद्देश्यों को समयबद्ध तरीके से हासिल करने पर रहेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *