हाईलेवल मीटिंग में बोले मोदी- गांवों में डोर-टू-डोर टेस्टिंग औरऑक्सीजन सप्लाई का इंतजाम किया जाए

Spread the love

देश में कोरोना का कहर बदस्तूर जारी है इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार यानि आज कोरोना को लेकर हाई-लेवल मीटिंग की। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हाई पॉजिटिविटी रेट वाले इलाकों में टेस्टिंग बढ़ाई जाए। उन्होंने गांवों में कोरोना के बढ़ते मामलों पर चिंता जताई। उन्होंने गांवों में डोर-टू-डोर टेस्टिंग और सर्विलांस की व्यवस्था की जाए। इसके अलावा उन्होंने वेंटिलटरों का इस्तेमाल नहीं होने पर भी नाराजगी भी जताई है।मीटिंग में स्वास्थ्य मंत्रालय, गृह मंत्रालय और नीति आयोग से जुड़े सीनियर अफसर शामिल हुए।

प्रधानमंत्री की बैठक की तीन अहम बातें

  1. ग्रामीण इलाकों में कोरोना फैलने से रोकना होगा उन्होंने ग्रामीण इलाकों में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जरूरी उपकरणों की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को सशक्त बनाने पर जोर दिया। प्रधानमंत्री ने ग्रामीण क्षेत्रों में होम आइसोलेशन और इलाज की व्यवस्था करने के निर्देश दिए।
  2. राज्यों को दिए गए वेंटिलेटर्स का ऑडिट हो प्रधानमंत्री ने कुछ राज्यों में वेंटिलेटर का उपयोग सही से नहीं होने के कुछ रिपोर्टों को गंभीरता से लिया। उन्होंने निर्देश दिया कि केंद्र सरकार की ओर से मुहैया कराए गए वेंटिलेटर्स की इंस्टालेशन और ऑपरेशन का तत्काल ऑडिट किया जाना चाहिए।
  3. गांवों के लिए डिस्ट्रीब्यूशन पॉलिसी तैयार तैयार की जाए प्रधानमंत्री ने निर्देश दिया कि ग्रामीण क्षेत्रों में ऑक्सीजन की सप्लाई सुनिश्चित करने के लिए डिस्ट्रीब्यूशन पॉलिसी तैयार की जाए। इसमें ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स को भी शामिल किया जाए। चिकित्सा उपकरणों के सुचारू ऑपरेशन के लिए बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित की जानी चाहिए।

विपक्ष साध रहा निशाना – देश के कई हिस्सों से वैक्सीन, ऑक्सीजन जैसी चीजों की कमी की खबरें आ रही हैं. इन मुद्दों को लेकर लंबे समय से विपक्ष लगातार सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी की सरकार पर निशाना लगा रहा है. कई बड़े राजनेताओं ने सरकार पर कोविड स्थिति के कुप्रबंधन के आरोप लगाए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.