मेडिकल स्टूडेंट्स सीखेंगे संवेदना की गोली से राहत की तकनीक, कोरोना ने मेडिकल स्टूडेंट्स की ट्रेनिंग भी बदली

कोरोना ने इंसानों के रहन-सहन से लेकर खान-पान का तरीका बदल दिया है। बच्चों की पढ़ाई की ट्रेंड भी बदल गया है। इसी तरह अब मेडिकल स्टूडेंट्स की ट्रेनिंग भी बदल गई है। डॉक्टरी की पढ़ाई के साथ-साथ अब मेडिकल स्टूडेंट्स में मानवता और मानव सेवा की भावना भरने का काम किया जाएगा। यह तकनीक बताई जाएगी कि किस तरह से मानवीय संवेदना के साथ मरीजों पर दवाओं का असर तेजी से किया जा सकता है। नेशनल मेडिकल काउंसिल पूरे देश में इस नए प्रयोग पर काम कर रही है। PMCH में भी इस नए पैटर्न के लिए प्रोफेसर को ट्रेंड किया जा रहा है।

नेशनल काउंसिल ने मेडिकल स्टूडेंट्स की ट्रेनिंग को लेकर जो प्लान तैयार किया है उसके मुताबिक पहले मेडिकल कॉलजों में प्रोफेसर को प्रशिक्षित किया जाएगा। इसके बाद ट्रेंड प्रोफेसर मेडिकल स्टूडेंट्स को प्रशिक्षण देंगे। इस नई ट्रेनिंग से पूरे देश में व्यवस्था बदलने का प्रयास किया जा रहा है। पटना मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल (PMCH) को भी नेशनल काउंसिल ने प्रशिक्षण के लिए चुना था। PMCH से पूरी डिटेल मांगी गई थी जिसके बाद 28 जुलाई से इसका प्रशिक्षण चालू कर दिया गया है। PMCH से 30 प्रोफेसर को इसके लिए ट्रेंड किया जा रहा है। 3 दिनों तक चलने वाले इस प्रशिक्षण में प्रोफेसर को मानवीयता को लेकर पूरी तरह से ट्रेंड किया जाएगा।

PMCH के प्राचार्य डॉक्टर विद्यापति चौधरी का कहना है कि कोरोना काल में एक साल पूर्व यह ट्रेंड आया लेकिन इस बार काफी बदलाव के साथ आया है। इस बार नेशनल काउंसिल की तरफ से यह कराया जा रहा है। डॉ. विद्यापति चाैधरी का कहना है कि मेडिकल एजुकेशन के तहत यह ट्रेनिंग दी जाएगी- ‘टीचर की ट्रेनिंग के तहत काम किया जा रहा है। पढ़ाई के साथ बौद्धिक विकास पर विशेष जोर देना है। अब केवल डॉक्टर ही नहीं तैयार करना है बल्कि मेडिकल स्टूडेंट्स को इसके ऊपर बनाया जाएगा। मरीजों का कैसे इलाज किया जाए, कैसे संवेदना जताई जाए। केवल कोर्स की पढ़ाई ही नहीं होगी हर तरह से उनकी बौद्धिक विकास को लेकर ट्रेंनिंग दी जाएगी। टीचिंग को इंम्प्रूव करने के साथ डॉक्टर और स्टूडेंट्स के बीच संवाद मजबूत करना भी इस ट्रेनिंग का बड़ा उद्देश्य है। मरीजों के प्रति व्यवहार बेहतर करना है’।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *