जानिए क्यों मनाया जाता है 21 मई को “अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस”

Spread the love

चाय के सतत्  उत्पादन को बढ़ावा देने और विश्व से गरीबी और भुखमरी को दूर करने के लक्ष्य से हर साल, 21 मई को, संयुक्त राष्ट्र अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस मनाता है। अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस मनाने का संकल्प 2019 में संयुक्त राष्ट्र खाद्य और कृषि संगठन द्वारा अपनाया गया था। खाद्य और कृषि संगठन के तहत संचालित चाय के अंतर सरकारी समूह ने 2015 में अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस की अवधारणा का प्रस्ताव रखा था। चाय उत्पादन जलवायु परिवर्तन के प्रति संवेदनशील है।अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य चाय उत्पादन के साथ जलवायु चुनौतियों को एकीकृत करना है और वैसे भी दुनिया में बहुत सीमित देश हैं जो चाय का उत्पादन करते हैं। अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस प्रतिवर्ष “Harnessing Benefits for all From Field to Cup” आदर्श वाक्य के साथ मनाया जाता है।

इतिहास-
अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस 2005 से दुनिया के प्रमुख चाय उत्पादक देशों जैसे श्रीलंका, भारत, इंडोनेशिया, वियतनाम, बांग्लादेश, नेपाल, केन्या, मलेशिया, मलावी, युगांडा और तंजानिया में मनाया जा रहा है। इसका उद्देश्य वैश्विक चाय व्यापार के प्रभाव के बारे में नागरिकों,सरकारों का ध्यान आकर्षित करना है।

उद्देश्य-
इस दिन का मुख्य लक्ष्य चाय के सतत् उत्पादन को बढ़ावा देना एवं गरीबी से लड़ने के लिए जागरूकता बढ़ाना है। चाय का उत्पादन गरीबी कम करना,भूख से लड़ना,महिला सशक्तिकरण,जैसे लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करता है।

भारत-
भारत चीन के बाद दूसरा सबसे बड़ा चाय उत्पादक देश है। साथ ही,भारत दुनिया में चाय का सबसे बड़ा उपभोक्ता भी है। भारत वैश्विक चाय उत्पादन का लगभग 30% खपत करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.