डिप्टी CM रेणु देवी के जिले बेतिया में तबाही, साड़ी से छान कर पीना पड़ रहा बाढ़ का पानी

बेतिया जिले में बाढ़ से तबाही मची है। कई इलाकों में पानी घुस गया है। लोग बेघर हो गए हैं। सड़क पर रहने को मजबूर हैं। घर छूटा तो सब कुछ पीछे रह गया है। मजबूरी ऐसी कि सड़क किनारे तंबू के नीचे रातें कट रही हैं। सरिसवा-महना मुख्य पथ पर सड़क के दोनों किनारे पिछले 20 दिनों से करीब 100 परिवार जिंदगी की आस में भूखे-प्यासे रहने को मजबूर हैं। बाढ़ पीड़ितों का दर्द ऐसा कि साड़ी से छान कर बाढ़ का पानी पीना पड़ रहा है। फिर भी ‘सुशासन बाबू’ के किसी भी प्रतिनिधि का दिल नहीं पसीज रहा है। जबकि, यह जिला डिप्टी CM रेणु देवी और BJP के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल का है।

सिकरहना और कोहड़ा नदी हर साल यहां कहर बरपाती है। लोगों को बेघर कर जाती है। पिछले 20 दिनों से 100 परिवार सड़क पर है, इनकी सुनने वाला कोई नहीं है। न खाने का ठिकाना है और ना पीने का पानी है। उनके सामने सिर्फ एक ही सवाल है क्या खुद खाएं और क्या बच्चों को खिलाएं। तंबू लगाकर दिन-रात रह रहे ये लोग मंझौलिया प्रखंड क्षेत्र की महनवा रमपुरवा पंचायत के नवका टोला के निवासी हैं। वे हर साल बाढ़ का दंश झेलते हैं और इसी तरह सड़क किनारे महीनों जिंदगी गुजार देते हैं। अब तो सड़क किनारे तंबू लगाकर खानाबदोश जिंदगी गुजारना नियति बन चुकी है। महनवा रमुपरवा पंचायत के कई गांव सिकरहना नदी और कोहड़ा नदी की मार हर साल झेलते हैं और बाढ़ आने के साथ ही नवका टोला सहित कई गांवों में पानी भर जाता हैं, जिससे गांव टापू में तब्दील हो जाता है।

बाढ़ पीड़ित बताते हैं कि प्रशासन इनकी ओर झांकने की भी जहमत नहीं उठाता हैं। किसी तरह प्लास्टिक तानकर, सड़क किनारे अस्थाई घर बनाकर जिंदगी जीते हैं, लेकिन ना तो कोई सरकारी मुलाजिम और ना ही कोई जनप्रतिनिधि इनकी सुधी लेने आता है। बिहार के सत्ताधारी दल के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल इसी क्षेत्र के सांसद हैं और डिप्टी CM रेणु देवी का गृह जिला भी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *