टीका नहीं तो काम नहीं, बाहर के राज्यों से लौटाए जा रहे बिहार के कामगार, कंपनियां मांग रहीं सर्टिफिकेट

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान बेरोजगार होकर अपने गांव लौटे कामगारों के समक्ष अब एक नई समस्या आ रही है। दूसरे राज्यों में अपने काम पर लौटने पर उनसे कोरोना टीके का प्रमाणपत्र मांगा जा रहा है। जिन्होंने टीके के दोनों डोज नहीं लिये हैं, उन्हें नियोक्ता लौटा रहे हैं। उनसे कहा जा रहा है कि पहले टीके लगवाओ, फिर काम कराऊंगा। इस कारण दूसरे प्रदेशों से बड़ी संख्या में राज्य के कामगारों लौटना पड़ रहा है। इस तरह अब रोजगार और नौकरी के लिए भी कोरोना का टीका अनिवार्य हो गया है।

बेगूसराय के तेघड़ा प्रखंड के गौड़ा-दो, पकठौल, धनकौल, पिपरादोदराज, चिल्हाय आदि पंचायतों में इस तरह के कई कामगार लौटे हैं। यहां के 18 से 44 आयुवर्ग के सैकड़ों लोग देश के विभिन्न हिस्सों में रोजगार के लिए गए थे। इनमें से जिनके पास कोरोना टीका का प्रमाणपत्र था, उन्हें रोजगार मिला और अन्य को वापस कर दिया गया।

पिपरादोदराज पंचायत के पिपरा गांव के बबलू पासवान व निहोरा पासवान समेत कई मजदूरों ने यहां लौटकर अपनी आपबीती बतायी। चिल्हाय पंचायत के दुखित पासवान व धनकौल गांव के अब्दुल वारी के साथ भी यही हुआ। हालांकि, वहां के डीएम अरविंद कुमार वर्मा ने बताया कि टीकाकरण कार्य चल रहा है जिसमें और तेजी लाने का प्रयास किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *