डेल्टा प्लस वैरिएंट अगले दो महीने में तीसरी लहर ला सकता है

विशेषज्ञों की माने तो कोविड नियमों का पालन नहीं किया गया तो 1-2 महीने में महामारी की तीसरी लहर महाराष्ट्र सहित देश को प्रभावित कर सकती है। यह लहर कोरोना के बेहद खतरनाक वैरिएंट डेल्टा प्लस (AY.1) की वजह से आएगी। राज्य की कोविड टास्क फोर्स ने बुधवार को इस महामारी की समीक्षा बैठक में यह जानकारी दी। इसके बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मेडिकल टीम और अन्य अफसरों को जरूरी इंतजाम चाक-चौबंद करने का निर्देश दिया है।
राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का अनुमान है कि दूसरी लहर की तुलना में तीसरी लहर में मरीजों की संख्या और ज्यादा हो सकती है। राज्य में महामारी की दूसरी लहर में 21 अप्रैल को सबसे ज्यादा 6.95 लाख एक्टिव पेशेंट थे। तीसरी लहर में यह आंकड़ा आठ लाख के पार जा सकता है। इनमें 10% बच्चे हो सकते हैं।बता दें कि देश में कोरोना की दूसरी लहर के लिए कोरोना के डेल्टा वैरिएंट को जिम्मेदार माना जाता हे। यह पहली बार भारत में ही पाया गया। अब इसी वैरिएंट का बदला रूप डेल्टा प्लस है। इसे और भी अधिक खतरनाक माना जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *