समीक्षक विनोद अनुपम ने कहा- ‘महारानी’ में कथाकार ने ईमानदारी जरा भी नहीं बरती है

Spread the love

हालिया रीलीज वेब सीरीज ‘महारानी’ पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी पर है। बिहारियों को अपमानित करने से लेकर सवर्णों को टारगेट पर लेने का काम इसमें खूब किया गया है।’ यह कहना है राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार प्राप्त समीक्षक विनोद अनुपम का। उन्होंने बीते दिनों देश के एक प्रतिष्ठित एक अख़बार को इंटरव्यू दिया आइये बताते हैं महारानी को लेकर क्या कहा विनोद अनुपम ने

सवाल- महारानी वेब सीरीज की टाइमिंग पर सवाल उठ रहे हैं?
जवाब- बिहार में सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी RJD है। जिस तरीके से लालू प्रसाद के मैदान में नहीं रहते हुए भी उनकी पार्टी ने ताकत दिखाई है। यह सत्ता पक्ष भी मान रहा है। ऐसे समय में ‘महारानी’ वेब सीरीज के जरिए यह याद दिलाने और बताने की कोशिश है कि राबड़ी देवी का समय बिहार में बेहतर समय था। मेरा मानना है कि RJD के पास एक ही ऐसा चेहरा है, राबड़ी देवी का। लालू प्रसाद का चेहरा पहचान में आ चुका है। इसलिए राबड़ी देवी के फेस लिफ्ट के लिए यह वेब सीरीज बनाई गई।

सवाल- राबड़ी देवी के फेस लिफ्ट से क्या फायदा होगा?
जवाब- राबड़ी देवी की सरकार उस तरह से बदनाम नहीं हुई, जैसे लालू प्रसाद की सरकार हुई। दूसरी बात यह कि वीमेन एम्पावरमेंट की बात जब भी निकलती है और शक्तिशाली महिला मुख्यमंत्री की चर्चा होती है तो मायावती, ममता बनर्जी और राबड़ी देवी का नाम लिया ही जाता है। इन्हें हम नहीं छोड़ सकते। वीमेन सेंटीमेंट और एम्पावरमेंट की जो बात होती है वह पॉजिटिव बात होती है और यह कथा बनती है।

सवाल- वेब सीरीज में बिहार के साथ कितना न्याय किया गया है?
जवाब- बिहार का नाम है इसमें। बिहार के लोगों का भी नाम है। जिसने भी स्क्रिप्ट लिखी है, दावे के साथ कह सकता हूं कि बिहार की राजनीति और यहां के पॉलिटिकल लोगों की जरा सी भी समझ नहीं है। गर्वनर की तो कोई भूमिका ही सच में नहीं थी, पर इसमें दिखाई गई है।

सवाल- तो क्या इसमें सच और झूठ का कॉकटेल है?
जवाब- सच्चे कैरेक्टर लिए गए हैं और झूठी कहानी के अंदर उसको फिट कर दिया गया है। राजबाला वर्मा दिखती हैं, राबड़ी देवी भी दिखती हैं पर पूरी कहानी वही है जो निर्देशक ने चाहा है। कथाकार ने ईमानदारी जरा भी नहीं बरती है।

सवाल- बिहार में जाति बड़ी चीज है। इसमें भी है। इसे किस तरह रखा गया है?
जवाब- वेब सीरीज को जिस तरह से गढ़ा गया है, उसमें यह साफ दिखता है। मेरा मानना है कि बिहार में जाति कभी उस तरह से नहीं रही। वेब सीरीज में रणवीर सेना को दिखाते हैं और उसे इतना पावरफुल दिखाते हैं कि ब्यूरोक्रेसी से लेकर राजनीति, और यहां तक कि राज्य के गवर्नर तक रणवीर सेना के प्रभाव में हैं। जातियों में सिंह, शर्मा, पांडेय, तिवारी का नाम ले-लेकर बताया जा रहा है कि वही सबसे भ्रष्ट हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.