ज्ञानवापी मस्जिद के तहखाने का खुलेगा ताला कोर्ट ने दिया आदेश, योगी ने अधिकारियों को दे दिए तगड़े निर्देश

Spread the love
ज्ञानवापी मस्जिद का फोटो

वारणसी: वाराणसी में जिस फैसले का इंतजार हो रहा था सालों से वो आज आखिर आ ही गया. अदालक ने ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे को लेकर जिला अदालत ने अपना फैससा सुना दिया है. कोर्ट ने मस्जिद में सर्वे करने की इजाजत दी है और इसके लिए 17 मई से पहले का समय तय किया गया है.

वीडियो रिकॉर्डिंग के दे दिए आदेश कौने-कौने की बनेगी वीडियो

कोर्ट ने एडवोकेट कमिश्नर अजय कुमार को हटाने की मांग को भी सिरे से खारिज कर दिया है. कोर्ट ने कल यानी बुधवार को इस मामले पर फैसला सुरक्षित रखा था और आज अपने फैसले में साफ कह दिया की सर्वे होगा. कौने कौने का होगा ज्ञानवापी में अब कोई जगह नहीं बचेगी जहां की वीडियो रिकॉर्डिंग न हो.

योगी आदित्यनाथ का फाइल फोटो

बवाल करने वालों पर होगा एक्शन, शांति के बनाने के लिए दंडात्मक कार्रवाई के आदेश

पिछली तारीखों के दौरान वीडियोग्राफी को लेकर जमकर बवाल हुआ था वहां दंगा भड़काने की साजिश रचि गई थी जिसके बाद पुलिस ने तुरंत ही एक्शन लेते हुए मामले को शांत करवाया. अब 17 तारीख तक सर्वे की बात बोल दी है. ज्ञानवापी मस्जिद में जब तक सर्वे चलेगा तब तक पुलिस का भारी पहरा रहेगा साफ आदेश हैं, कोर्ट के की किसी भी प्रकार की अशांति नहीं चाहिए अगर किसी ने भी ऐसा करने की कोशिश की तो पुलिस तगड़े तौर पर निबटेगी. खुद मुख्यमंत्री योगी ने पुलिस के बड़े अधिकारियों को ये निर्देश दे दिए है, की सुरक्षा व्यवस्था में किसी प्रकार की चुक न हो सर्वे के दौरान वहां कोई भी अशांति न हो इसका विशेष ध्यान रखा जाए.

नहीं हटाया एडवोकेट कमिश्नर को

मस्जिद के पीछे चबूतरे में मां श्रृंगार गौरी और दूसरे देवी-देवताओं के सत्यापन और उनके अस्तित्व को स्थाफित करने के लिए शुक्रवार दोपहर को कोर्ट से नियुक्त एडवोकेट कमिश्नर ने निरीक्षण शूरू किया था.

मुस्लिम पक्ष की दलील थी की एडवोकेट कमिश्नर को हटा देना चाहिए. अंजुमन इन्तिजामिया मस्जिद के वकीलों ने अदालत में अर्जी दाखिल की थी. उनकी मांग की थी कि अजय कुमार को हटा कर कोर्ट या तो खुद निरीक्षण करे या फिर किसी दूसरे वरिष्ठ वकील से करवाएं.

हिंदू याचिकाकर्ताओं के वकील मदन मोहन यागव ने बताया कि सर्वे के लिए दो और वकीलों को कमिश्नर के तौर पर नियुक्त किया गया है. उन्हे 17 मई तक रिपोर्ट सौपनी होगी. बात साफ है मुस्लिम पक्ष को बड़ा झटका लगा है कोई भी मुस्लिम वकील या उस पक्ष के लोग अब मीडिया से भी बात नहीं कर रहे हैं. उन्होने साफ बोल दिया की हम कोई बात नहीं करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.