बिहार में अनलॉक-5 को लेकर मुख्य सचिव ने DM के साथ की बैठक, मंदिर- मस्जिद खोलने पर हुई चर्चा

बिहार में कोरोना संक्रमण के केस कम होने के साथ ही सरकार अब अनलॉक- 5 में और भी ढील देने पर  विचार कर रही है. मुख्य सचिव त्रिपुरारी शरण ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से विभिन्न जिलों के डीएम के साथ अनलॉक को लेकर विचार-विमर्श किया. अनलॉक- 5 में और क्या ढील संभव है इस पर विचार हुआ. साथ ही मंदिर और मस्जिद खुलेंगे या बंद रहेंगे, इस पर अंतिम फैसला 3 या 4 अगस्त को आपदा प्रबंधन समूह द्वारा बुलाई गई बैठक में लिया जाएगा. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान जिला अधिकारियों द्वारा मुख्य सचिव को अपने जिले में कोरोना की मौजूदा स्थिति के बारे में विस्तृत तौर पर जानकारी दी गई. कुछ जिलाधिकारियों ने बताया कि जिलों में संक्रमण के नए मामले में कमी लगातार देखने को मिल रही है. अधिकारियों ने बताया कि कोरोना टेस्ट की संख्या बढ़ाई जा रही है और साथ ही अधिक से अधिक लोगों के वैक्सीनेशन की कोशिश भी हर संभव की जा रही है.

जिलाधिकारियों ने मुख्य सचिव को सलाह दी है कि सरकार कोरोना के कम होते मामले का स्वास्थ्य विभाग के साथ आकलन कर ले और फिर मंदिर- मस्जिद और मॉल के साथ ही जीवन जैसी चीजों के खोलने पर विचार करें. कुछ जिलाधिकारियों ने सुझाव दिया कि सावन के महीने में मंदिरों में काफी भीड़ होती है और इसी महीने मुहर्रम भी है. लिहाजा सरकार को अंतिम निर्णय लेने से पहले ग्रहण मंथन कर लेना चाहिए, ताकि संक्रमण के मामले नहीं बढ़ पाए. अब देखना होगा सरकार आखिरकार अनलॉक-5 में किस तरह का निर्णय लेती है. आपको बता दें बिहार में नए कोरोना संक्रमितों की संख्या एक लंबे अंतराल के बाद 50 से कम पर पहुंच गई है. स्वास्थ्य विभाग ने गुरुवार को राज्य से 46 नए पाजिटिव मिलने की जानकारी दी थी. 13 जिले ऐसे हैं, जहां से एक भी नए संक्रमित नहीं मिले. संक्रमण से बीते 24 घंटे में तीन लोगों की मौत हुई है. बिहार को केंद्र से 4.29 लाख वैक्सीन के डोज प्राप्त होते ही टीकाकरण में तेजी आ गई है. गुरुवार को प्रदेश में 3.67 लाख लोगों का टीकाकरण किया गया. हालांकि, इसके साथ ही वैक्‍सीन की किल्‍लत भी हो गई. वैक्‍सीन की नियमित आपूर्ति नहीं होने के कारण कई जिलों में टीकाकरण केंद्रों की संख्‍या घटानी पड़ी है. दूसरी डोज के लिए लोगों के आने से टीके की जरूरत अब ज्‍यादा बढ़ गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *