सावधान! बिहार में हो रही बच्चों की मौत, नए वायरस से टेंशन में डॉक्टर, पटना में 233 बच्चे भर्ती

सावधान हो जाइये. बिहार में इन दिनों बच्चों को एक नई बीमारी हो रही है. राज्य के पटना, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, सारण, सीवान, पश्चिम चंपारण और पूर्वी चंपारण समेत लगभग दर्जनभर जिलों में रहस्यमयी वायरल बुखार से हड़कंप मच गया है. सूबे के गोपालगंज जिले में दो और मुजफ्फरपुर जिले में एक बच्चे की मौत हो गई है. दिन प्रतिदिन बीमार बच्चों की संख्या भी लगातार बढ़ते ही जा रही है, जो डॉक्टरों के लिए भी एक बड़ी परेशानी का सबब बना हुआ है. डॉक्टर भी टेंशन में हैं  क्योंकि वे इस नए वायरस से अनजान हैं.

राजधानी पटना में एम्स और पीएमसीएच समेत चार बड़े अस्पतालों में वायरल बुखार से पीड़ित लगभग 200 से ज्यादा बच्चे भर्ती हैं. पटना के पीएमसीएच में 30 नए बच्चों को भर्ती कराया गया है. पीएमसीएच के शिशु विभाग पीकू-नीकू में 276 बेड है, जिसमें 131 बेड पर वायरल से पीड़ित बच्चे हैं. जबकि दूसरे बड़ों पर अन्य बीमारी से पीड़ित बच्चे हैं.

इसके अलावा मुजफ्फरपुर, सारण, गोपालगंज, सीवान और पश्चिमी चंपारण में भी यह बुखार तेजी से फ़ैल रहा है. बुधवार को मुजफ्फरपुर के श्रीकृष्ण मेडिकल कालेज अस्पताल में 40 व केजरीवाल अस्पताल में 25 बच्चों को भर्ती कराया गया. इस बीच एसकेएमसीएच के पीकू वार्ड में भर्ती पूर्वी चंपारण जिले के सुगौली निवासी अमित कुमार (11) की एक्सप्रेशनल निमोनिया से मौत हो गई. उसे दो दिन पहले गंभीर स्थिति में भर्ती कराया गया था.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक गोपालगंज सदर अस्पताल में प्रतिदिन 300 समेत जिले में वायरल बुखार से पीड़ित चार सौ के करीब बच्चे इलाज को अस्पतालों में पहुंच रहे हैं. बुधवार को सदर अस्पताल में एक और दूसरे बच्चे की पटना ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई. कुचायकोट थाना क्षेत्र के भठवा गांव के जवाहरलाल मिश्रा के पुत्र दस वर्षीय अभिषेक कुमार की आज सुबह मौत हो गई. मांझा प्रखंड के धोबवलिया गांव की गुड़िया खातून की तीन वर्षीय पुत्री फायका खातून की भी जान चली गई.

गया के मगध मेडिकल कॉलेज के शिशु वार्ड में 71 में से 47 बेड फुल हैं. जबकि सीवान जिले के सदर हॉस्पिटल में 80 से 90 बच्चे पहुंच रहे हैं. पटना एम्स में शिशु रोग के विभागाध्यक्ष डॉ लोकेश तिवारी बीमारी का कारण अज्ञात वायरल को बता रहे हैं. पीएमसीएच शिशु रोग के पूर्व विभागाध्यक्ष और एईएस समेत कई महामारी का एसओपी बनाने वाले डॉ निगम प्रकाश नारायण के अनुसार चार विरस के गठजोड़ के कारण इस साल यह वायरल तेजी से फ़ैल रहा है. बीमार बच्चों में फ्लू, एक्यूट ब्रांकियोलाइटिस, वायरल निमोनिया और डेंगू वायरस के लक्षण है. ब्रांकियोलाइटिस वायरस के कारण बच्चों के फेफड़े संक्रमित हो रहे और उनका दम फुल रहा है. बच्चों को इससे सांस लेने में दिक्कत हो रही है. उन्हें बुखार और उल्टी की भी शिकायत है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *