बिहार पंचायत चुनाव: हटाए जाएंगे नगर निकायों में आने वाले बूथ, राज्यो निर्वाचन आयोग ने दिया आदेश

राज्य निर्वाचन आयोग ने जिला प्रशासन को नव गठित नगरपालिका क्षेत्र में पड़ने वाले बूथों को पंचायत चुनाव के लिए निर्धारित बूथों से मिटाने का आदेश दिया है। पंचायत चुनाव की प्रक्रिया तेज करते हुए आयोग ने कहा है कि नगरपालिका क्षेत्र में आने वाले सभी बूथ विलोपित कर दिए जायें व नए सिरे से पंचायत चुनाव के लिए बूथों का निर्धारण किया जाये। पंचायत चुनाव के लिए विशेष दिशा निर्देश जारी करते हुए आयोग के सचिव योगेंद्र राम ने कहा है कि यदि ग्राम पंचायत के आंशिक क्षेत्र के साथ पूर्व में स्थापित मतदान केंद्र नगरपालिका क्षेत्र में चला गया हो, तो शेष बचे ग्राम पंचायत में मतदान केंद्र पंचायत क्षेत्र में स्थापित किया जाएगा।इसके अलावा कहा गया है कि ऐसा वार्ड जिसमें किन्हीं कारणों से मतदान केंद्र स्थापित न होकर वह वार्ड नगरपालिका क्षेत्र में जाने के कारण विलोपित हुआ हो, तो वे मतदान केंद्र भ्ज्ञी विलोपित हो जाएंगे। वहीं वैसे वार्ड जिनका मतदान केंद्र बगल के वार्ड में हो, व बगल वाला वार्ड नगरपालिका क्षेत्र में आ गया हो, तो उस केंद्र को पुन: पंचायत के क्षेत्र में स्थापित किया जाए।

राज्य निर्वाचन आयोग ने कहा है कि जिस मतदान केंद्र में बदलाव हो रहा है, वहां मतदाताओं को व्यापक प्रचार प्रसार के जरिए जानकारी दी जाए। कहा गया है कि पूर्व के मतदान केंद्र पर 14 दिनों तक कर्मियेां की तैनाती कर लोगों को नए मतदान केंद्र के बारे में विस्तार से बताया जाए। इसके लिए आयोग ने तिथि भी निर्धारित कर दी है। कहा गया है कि 30 जुलाई से 12 अगस्त तक इन बूथों पर प्रचार प्रसार किया जाये। राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देश के पहले पंचायत चुनाव के लिए 5262 बूथों का निर्धारण किया गया था। आयोग के निर्देश के बाद अब जिले के नए सात नगर पालिका क्षेत्र के मतदान केंद्र विलोपित हो जाएंगे। इसके बाद बूथों की संख्या में कमी आएगी। जिन नगर पालिका क्षेत्र के मतदातन केंद्र विलोपित होंगे उनमें बरूराज, सरैया, कुढ़नी, तुर्की, ढोली, नगर पंचायत शामिल हैं। इसके अलावा पहले बैलेट के आधार पर चुनाव को लेकर मतदान केंद्र निर्धारित था, जिसमें प्रत्येक मतदान केंद्र पर केवल 750 मतदाताओं की व्यवस्था थी, इस बार चुनाव ईवीएम से होने हैं इसलिए मतदाताओं की संख्या प्रत्येक बूथ पर बढ़ायी जाएगी। इसके कारण भी बूथों की संख्या में कमी आएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *