रामपुर आजमगढ़ उपचुनाव में हार,क्या अखिलेश खुद है जिम्मेदार

Spread the love

आजमगढ़ रामपुर लोकसभा सीटों के लिए हुए चुनाव में समाजवादी पार्टी की हार के चर्चे हर जगह हो रही है रामपुर की सीट आजम खान के विधानसभा जाने से खाली हुई थी और आजमगढ़ की सीट अखिलेश यादव के।, दोनों ही सीटों को सपा की परंपरागत सीट माना जाता था ऐसे में पार्टी अपने परंपरागत गढ़ को भी नहीं बचा पाए यह बहुत ही विचारणीय है और जानना भी जरूर हो जाता है कि आखिर गड़बड़ हुई तो कहा हुई ।

file photo Akhilesh Yadav


हार के कारण


यू तो कई कारणों पर चर्चा हो सकती है लेकिन जो चीज सबसे ज्यादा हैरान करने वाली है वह है अखिलेश यादव का इन उप चुनाव के प्रचार से दूरी बनाना. अब इसी कारण को सब तलाश रहे हैं यह बात हर किसी को इतनी आसानी से हजम नहीं हो रही है लोग सवाल पूछ रहे हैं कि आखिर क्या कारण था ऐसी क्या व्यस्तता थी अखिलेश यादव प्रचार में नहीं आ पाए।


सोशल मीडिया पर का कस रहे है तंज


लोग कह रहे हैं अखिलेश यादव ना तो किसी राज्य के मुख्यमंत्री है और ना ही यूपी से बाहर सपा की कहीं सरकार है नाही अखिलेश यादव आईसीसी के चेयरमैन है जो कि भविष्य में होने वाले क्रिकेट दौरो का शेड्यूल तय करने में वह बिजी हो और ना ही उनके घर पर रंग रोगन कोई ऐसा काम चल रहा था कि मिस्त्री का सामान लाकर देने के लिए उनका घर पर रहना जरूरी था ।केवल उत्तर प्रदेश में ही उन्हें सियासत करनी है और पार्टी का मुखिया होने के बावजूद अगर वह उसके लिए भी वक्त नहीं निकाल पाए तो सवाल तो पूछे जाएंगे।


बीजेपी हर चुनाव में झोंक देती है पूरी ताकत


बीजेपी के लिए कोई भी चुनाव हो वह जीने मरने का सवाल मानकर लड़ती है आजमगढ़ और रामपुर का उप चुनाव में बीजेपी ने बड़ी शिद्दत से लड़ा. चुनाव का ऐलान होते ही उन्होंने प्रभारी और मंत्रियों की लिस्ट जारी कर दी थी संगठन के लोग अलग से प्रचार में जुटे थे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लेकर के उन दोनों उपमुख्यमंत्री और सारे प्रमुख मंत्री गण मैदान मैं मौजूद थे गिरीश यादव और जितिन प्रसाद जैसे मंत्री तो वहीं पर डेरा डाले हुए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.