बहराइच में लव अफेयर होने पर पत्‍नी की हत्‍या की : 5 घंटे तक मां की डेडबॉडी से लिपटकर रोते रहे तीन बच्‍चे, यह नजारा देखकर पति ने भी फांसी लगाकर जान दी

Generic placeholder image
  लेखक: हेडलाइंस डेस्क

उत्तर प्रदेश: बहराइच जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां पर अवैध संबंधों के शक में पहले पति ने अपनी पत्‍नी की हत्‍या कर दी। फिर खुद फांसी लगाकर जान दे दी। जबकि उनके तीनों बच्‍चे यह देखकर रोते रहे। घटना की सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने दोनों डेडबॉडी को पोस्‍टमार्टम के लिए भेज दिया है। मामले की गंभीरता को देखते एसपी भी मौके पर पहुंचे और पूछताछ की। 

पत्‍नी के प्रेम प्रसंग का था शक 
यह मामला बौंडी थाना क्षेत्र के ग्राम शंकरपुर बभनौटी गांव का है। यहां पर संभारी लाल विश्वकर्मा (32) अपनी पत्नी श्री देवी (30) के साथ रहते थे। उनके तीन बच्‍चे हैं इनमें सबसे बड़ा बेटा तीन साल का है। बताते हैं कि संभारी लाल को शक था कि उसकी पत्‍नी श्री देवी का कहीं और लव अफेयर चल रहा है। इसको लेकर कई बार उनमें कहासुनी होती थी। नौबत यहां तक आ जाती थी कि दोनों के बीच में मारपीट तक हो जाती थी। पति को शक था कि श्रीदेवी का गांव के ही एक युवक से प्रेम प्रसंग चल रहा है। कई बार उसने एक युवक से बातचीत करते हुए देखा भी था। इसका उसने विरोध भी जताया था। इस बाद को लेकर घर में कलह बनी रहती थी। 

गुस्‍से में पत्नी का गला दबाया 
ग्रामीणों ने बताया कि इसी बात को लेकर मंगलवार रात को भी दोनों के बीच विवाद हो गया। कहासुनी बढने पर संभारी लाल ने अपनी पत्‍नी श्रीदेवी की पिटाई कर दी। गुस्‍से में आकर उसने श्री देवी का गला दबा दिया। इससे पत्‍नी की मौके पर ही मौत हो गई। पत्‍नी की हत्‍या के बाद संभारी लाल घबरा गया। इसके बाद उसने भी कमरे में फांसी का फंदा लगाकर आत्‍महत्‍या कर दी। 

माता पिता को देखकर रोते रहे बच्‍चे 
माता पिता के बीच विवाद और हत्‍या को देखकर तीनों बच्‍चे रोते बिलखते रहे, लेकिन दोनों में से किसी को भी दया नहीं आई। मां की मौत के बाद तीनों बच्‍चे मां के जिस्‍म से लिपटकर रातभर रोते रहे। सुबह तड़के लोगों की नजर गई तो अंदर जाकर देखा। ग्रामीणों में हड़कंप मच गया। सभी ने पुलिस को सूचना दी। प्रभारी थानाध्यक्ष मौके पर पहुंचे तो महिला का शव नीचे पड़ा मिला। जबकि पति फंदे से झूल रहा था। पुलिस ने शवों को कब्जे में लिया। अधिकारियों को जानकारी दी। अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण अशोक कुमार और पुलिस क्षेत्राधिकारी मौके पर पहुंचे। अपर पुलिस अधीक्षक ने मौके का मुआयना किया। ग्रामीणों के बयान दर्ज किए।

अनाथ हो गए बच्चे
मृतक दंपती के तीन बच्चे हैं। सबसे बड़ा बेटा तीन साल का है। माता पिता की मौत से तीनों बच्चे अनाथ हो गए। सबसे छोटा बेटे को कुछ पता भी नहीं है।

Headlines India Hindi News news UP News

Comment As:

Comment (0)