बिहार के 14 लाख लोगों के पास राशनकार्ड नही सरकार कह रही सुविधाए बढ़ रही है ।

Spread the love

पटना: बोले चिराग ने नीतीश सरकार से , केंद्र को क्‍यों नहीं भेजी जा रही 14.5 लाख ला‍भार्थियों की सूची ,इस सवाल पर नीतीश सरकार चुप्पी क्यों साधे हुई है।आपको बताते चलें कि लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा है कि केंद्र सरकार के निरंतर प्रयासों के बाद भी बिहार सरकार ने 14.5 लाख ला‍भार्थियों अभी तक सूची नहीं भेजी है जिससे बिहार की जनता बहुत परेशान हैं। कोरोना महामारी को लेकर फैली त्रासदी में जहां बिहार सरकार लगातार सुविधाएं बढ़ाने और लोगों तक राहत पहुंचाने के दावे कर रही है,तो वहीं सहयोगी दल लोजपा के द्वारा सवाल खड़ा करने से एनडीए में राजनीति तेज हो गई है और उठापटक वाली सियासत की बाते हो रही है।एक तरफ सवाल खड़े किए जा रहें हैं तो दूसरी तरफ सवाल के जवाब ब खूबी से दिए जा रहे हैं इन दोनों सवाले निशान पर बिहार की जनता का कोई फायदा ,या मरहम नजर नहीं आ रहा है जिससे कि उनको इस गंभीरमहामारी में कोई मदद मिल सके। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोगों को मुफ्त राशन देने का वादा किया है तो कई जिलों से सूचना आई कि सड़ा व बेकार अनाज बितरण कर दिया गया फिलहाल जनता है सब जानती है हंगामा करने के बाद फिर चुप हो जाती है ये राजनीति लोग बखूबी जानते है और उनको इसी बात का फक्र भी है।नीतीश कुमार ने यह भी एलान किया है कि जिनके पास राशन कार्ड नहीं होंगे, उन्हें भी राशन मुहैया कराया जाएगा।लेकिन, लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने बिहार सरकार की कार्यशैली को लेकर कई सवाल खड़े कर दिए हैं।सवाल लाजिमी भी है मुसीबत आज आई तो उसका समाधान क्या वर्षो बाद किया जायेगा।
गला फाड़ -फाड़कर कह रहे हैं कि 14.50 लाख राशन कार्ड नहीं अब तक क्यों नहीं बने।
लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान इतना ही नहीं बल्कि बिहार सरकार की कार्यशैली पर भी सवाल खड़े करते नजर आ रहें हैं ।लॉकडाउन को देखते हुए केंद्र सरकार ने तमाम प्रदेशों से बचे हुए लगभग 39 लाख राशन कार्डधारकों की सूची जल्द भेजने को कहा है। जिसमें एक बड़ी संख्‍या लगभग 14.5 लाख बिहार प्रदेश के ला‍भार्थियों की है। केंद्र सरकार के निरंतर प्रयासों के बाद भी बिहार सरकार ने अभी तक सूची नहीं भेजी है।उन्‍होंने कहा है कि जिनका नाम राशन कार्ड लिस्ट में नहीं है, वह काफ़ी दिक्कत में हैं। बिहार में लगभग 14.5 लाख लोगों को इससे जोड़ा जाना है, लेकिन प्रदेश सरकार ने अभी तक लाभार्थियों की सूची केंद्र को नहीं दे पाई है, जिससे उन्हें राशन का लाभ नहीं मिल रहा है,और जनता बेहालत में है इस महामारी में उसको आस लगी है बिहार के उद्धारक हमारी मदद करेंगे लेकिन समय बलवान होता है ये शायद जनता नही जाना रही है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.