थोक मुद्रास्फीति घटकर 2.02% पर, दो साल के निचले स्तर पर आई थोक महंगाई

Spread the love

डेस्क: थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आधिकारिक आंकड़े सोमवार को जारी किए गए। थोक मूल्य पर आधारित मुद्रास्फीति जून में 2.02 फीसदी रही, जबकि पिछले महीने यानी मई में 2.45 फीसदी थी। वहीं पिछले साल जून में थोक मूल्य पर आधारित मुद्रास्फीति 5.68 फीसदी पर रही थी।

खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़ने से खुदरा मुद्रास्फीति जून में इससे पूर्व महीने के मुकाबले मामूली रूप से बढ़कर 3.18 फीसदी पर पहुंच गई। सरकारी आंकड़े के अनुसार उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित खुदरा मुद्रास्फीति इस साल मई महीने में 3.05 फीसदी और जून 2018 में 4.92 फीसदी थी। खुदरा मुद्रास्फीति इस साल जनवरी से बढ़ रही है।

इस साल जून में डब्ल्यूपीआई मुद्रास्फीति पिछले 23 महीने के सबसे निम्न स्तर पर रही। इससे पहले जुलाई, 2017 में यह 1.88 फीसदी पर थी। दूसरी ओर, अप्रैल की डब्ल्यूपीआई मुद्रास्फीति को संशोधित कर 3.24 प्रतिशत कर दिया गया है जो अस्थायी तौर पर 3.07 प्रतिशत पर थी।।

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित आंकड़ों के अनुसार अंडा, मांस और मछली जैसे प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों की महंगाई दर जून में इससे पूर्व महीने के मुकाबले अधिक रही। हालांकि सब्जियों और फलों के मामले में मुद्रास्फीति की वृद्धि धीमी रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.