जदयू महिला नेता की हिम्मत को सलाम, बीच सड़क पर फर्जी अधिकारी को चप्पल से पीटा

Spread the love

JAMSHEDPUR : जमशेदपुर में फर्जी एंटी करप्शन ऑफिसर एक महिला से 50 हजार रुपये की रिश्वत की मांग कर रहा था। लेकिन जैसे ही इस अधिकारी की पोल खुली तो महिला ने इसकी चप्पल से पीटाई कर दी।

ताजा अपडेट के अनुसार महिला को जैसे ही इस बात की भनक लगी की रिश्वत मांगने वाला युवक नकली है वैसे ही उसने बहानाकर उसे पहले अपने घर बुलाया। महिला ने व्यक्ति की पहले तो चप्पल से जमकर पिटाई की बाद में उसे पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस उस शख्स से पूछताछ कर रही है। पुलिस स्टेशन प्रभारी अरुण मेहता ने बताया कि महिला ने व्यक्ति की शिकायत की थी।

जानकारी अनुसार यह घटना झारखंड के जमशेदपुर स्थित मानगो इलाके का बताया जाता है। मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार एक व्यक्ति ने महिला से नकली भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो अधिकारी बनकर 50 हजार रुपये की मांग की। महिला ने बिना देर किए इस बात की जानकारी स्थानीय थाने में जाकर दी। मानगो इलाके के थाना प्रभारी अरुण मेहता के मुताबिक, महिला ने शिकायत की थी कि एक फर्जी आदमी उससे 50 हजार रुपये की मांग कर रहा है। महिला ने पुलिस को यह भी बताया कि शख्स ने दावा किया है कि वह एंटी करप्शन ब्यूरो का ऑफिसर है। महिला ने पुलिस को बताया कि उसके परिवार में किसी तरह की कोई परेशानी है, जिसकी वजह से वह शख्स के संपर्क में आई थी। पुलिस ने उस शख्स को गिरफ्तार कर लिया है और पूछताछ कर रही है।

पीड़िता जदयू नेता ने कहा- फणीन्द्र खुद को एंटी करप्शन का अधिकारी बताकर लोगों को डराकर रुपए वसूलता है, इसमें वो महिलाओं की भी मदद लेता है। सोमवार की रात मानगो गुरुद्वारा बस्ती में मैं दोस्त (विकास) के साथ रूकी थी। इसी दौरान वो देर रात पति को लेकर वहां पहुंचा। अफेयर होने की बात पति समेत घरवालों को बताने व केस में फंसाने की धमकी दे रहा था। इसके एवज में उसने 50 हजार रुपए की मांग की थी। उसकी हरकतों से तंग आकर मैंने इसकी जानकारी भाजपा महिला नेता स्मिता पाठक, सविता मैत्री व जदयू की सुनैना कुमारी को दी। जिसके बाद सुनियोजित तरीके से मंगलवार को उसे मानगो गुरुद्वारा रोड बुलाया व महिला नेताओं ने उसे पकड़ा व पुलिस को सौंपा। गिरफ्तार फणीन्द्र के पास से पुलिस ने फर्जी रेलवे टीसी, एंटी करप्शन ब्यूरो का आईडी कार्ड अन्य कागजात बरामद किया है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.