कड़ाके की ठण्ड में कान का दर्द : बचने के लिए करें ये उपाय

Spread the love

Headlines India Health Desk : सभी को ठंड से सबसे ज्यादा कानों को बचाने की सलाह दी जाती है। यदि लापरवाही बरती जाए तो ठंड कान में घुस सकती है और असहनीय दर्द उठ सकता है। कान के इस दर्द को नजरअंदाज करना खतरनाक हो सकता है। 
आपको बता दें कि कई बार सर्दी या जुखाम की वजह से भी कान में दर्द शुरू हो जाता है। एक हेल्थ वेबसाइट से जुड़े डॉ. अभिषेक गुप्ता कहते है कि, इसे नजरअंदाज करने पर कान से तरल पदार्थ का रिसाव शुरू हो सकता है और यह व्यक्ति के स्वास्थ्य के काफी खतरनाक हो सकता हैं। कई लोग कान में दर्द होने पर तेल डाल लेना या फिर माचिस की तीली जैसी किसी चीज से कान को साफ करने की कोशिश करने लगते हैं, लेकिन कई बार यही आदत घातक हो सकती है। इससे व्यक्ति के कान की नाजुक झिल्लियां को नुकसान पहुँच सकती हैं। इससे कण की सुनने की शक्ति भी जा सकती हैं। इसलिए बेहतर होगा सर्दी के मौसम में कान की विशेष देखभाल की जाए और दर्द लंबे समय तक बना रहे तो किसी विशेषज्ञ को दिखाएं। खासतौर पर बच्चों के मामले में यह सावधानी बरतना बहुत जरूरी है।
एक हेल्थ वेबसाइट से जुड़े डॉ. आयुष पाण्डेय के अनुसार, बैक्टीरिया और फंगस के कारण कान की बाहरी नली में संक्रमण या सूजन हो सकती है। इसमें कान को छूने, खींचने या कुछ चबाते समय दर्द होता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.