तेजस्वी ने नीतीश को फिर से घेरा, कहा कि नीतीश कुमार को है बस अपनी कुर्सी प्यारी, दिला ना सकें भारत रत्न…

बिहार में मंत्रिमंडल के विस्तार पर चर्चाएँ काफ़ी हो रही है। विपक्ष के नेता लगातार नीतीश के सरकार पर सवाल उठा रही है और कह रही है कि मंत्रिमंडल का विस्तार कब होगा। सरकार के गठन हुए 2 महीने से ज्यादा हो गए है लेकिन अभी तक बीजेपी के मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं हो पाया है। इसी बीच एक बार फिर से आरजेडी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा है और आरजेडी ने नीतीश कुमार पर यह आरोप लगाया है कि वे किसी भी हाल में बस कुर्सी से चिपके रहना चाहते हैं। बिहार और यहाँ की तीन पीढ़ियों का भविष्य बर्बाद करना चाहते हैं।

दरअसल आरजेडी ने अपने ट्वीटर अकाउंट से ट्वीट किया है और कहा है कि ताउम्र बैसाखी पर राजनीति करने वाले रीढ़विहीन नीतीश की मोदी जी ने अब बैसाखी ही छिन ली है. लेकिन कुर्सी कुमार तमाम अपमान सह कर भी मोदी-शाह के चरणों से लिपटें है कि जैसे-तैसे बस कुर्सी से चिपका रहने दें ताकि वो बिहार और इसकी तीन पीढ़ियों को बर्बाद कर सकें।

आपको बता दे बिहार में जब से बीजेपी एनडीए के बड़े भाई की भूमिका में सामने आई है तबसे एनडीए में काफी बदलाव सामने आया हैं। बदलाव के कारण बीजेपी-एनडीए में काफी कुछ देखने को मिला। लेकिन दोनों दलों के नेताओं के बयान से यह अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि बीजेपी-एनडीए में खींचतान ज़ारी है। जो कि विपक्ष को अब साफ़ नज़र आ रहा है।

आरजेडी ने लोकनायक कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न से नवाज़ने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को घेर लिया था। आरजेडी के वरिष्ट नेता तेजस्वी यादव ने यह कहा कि, कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न दिलाने की हमारी मांग बहुत पुरानी है लेकिन बिहार में एनडीए के 40 में से 39 सांसद होने के बाद भी यह “डबल इंजन” की सरकार उन्हें एक भारत रत्न क्यूँ नहीं दे पाई। क्या इसलिए कि वो वंचित समूह से संबंध रखते है? सीएम इसके लिए विशेष रूप से पीएम से क्यों नहीं मिलते? वहीं तेजस्वी के इस बयान पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने अब तक 4 बार लोकसेवक कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न दिलाने के लिए केंद्र से मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *