‘जाप’ कार्यकर्ताओं का राजव्यापी मौन मार्च

जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव की गिरफ्तारी के खिलाफ एवं रिहाई की मांग को लेकर राघवेंद्र कुशवाहा और जाप के राष्ट्रीय महासचिव प्रेम चंद्र सिंह के नेतृत्व में पटना स्थित आर्ट कॉलेज से इन्कमटेक्स चौराहे तक मौन मार्च निकला गया इस मौनमार्च में भारी संख्या में कार्यकर्ता सम्मलित हुए.जाप कार्यकर्ताओं ने काला कपड़ा मुँह पर बांध बिहार सरकार के खिलाफ सांकेतिक विरोध प्रदर्शन करते हुए नीतीश सरकार की नीतियों पर भी सवाल खड़े किये।गौरतलब है कि 32 साल पुराने कथित अपहरण के एक मामले में पूर्व सांसद पप्पू यादव को पुलिस द्वारा बीते दिनों पटना से गिरफ्तार कर लिया गया था जाप सुप्रीमो की गिरफ्तारी के बाद से ही बिहार में सियासी घमासान मचा हुआ है.जाप अध्यक्ष पप्पू यादव की गिरफ्तारी के बाद से तमाम पार्टी के नेताओं की टिप्पणी सामने आ चुकीहैं

नीतीश सरकार पर लगातार खड़े किये जा रहे हैं सवाल – पप्पू यादव की गिरफ्तारी के बाद से ही बिहार सकरार निरंतर सवालों के घेरे में हैं जाप नेताओं द्वारा कई बार सार्वजानिक मंचों से कहा जा चुका है कि जब वैश्विक महामारी में पूरे देश के नेता अपने-अपने घरों में दुबके हुए थे तब एकमात्र गरीबों के मसीहा अपनी जान की परवाह न करते हुए जरूरतमंद लोगों को ऑक्सीजन, दवा, खाना, अस्पताल में बेड के साथ अन्य सुविधाओं को मुहैया करवा रहे थे। जब कोरोना से पीड़ित मरीजों को एंबुलेंस नहीं मिल रही थी तो पप्पू यादव ने एक सांसद एंबुलेंस चोर की पोल खोल दी थी। इससे नीतीश सरकार ने चिढ़कर जाप सुप्रीमो को एक झूठे केस में फंसा दिया। हमारी मांग है कि जबतक सरकार उन्हें झूठे आरोपों से बरी नहीं करती, बिहार में बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया नहीं कराती तब तक हमारा प्रदर्शन जारी रहेगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जन अधिकार पार्टी द्वारा अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव की गिरफ्तारी के खिलाफ एवं रिहाई की मांग को लेकर राज्यव्यापी मौन मार्च के आयोजन की घोषणा सोशल मीडिया एकाउंड के जरिये साझा की गई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *