बीपी मशीन लेकर विधानसभा पहुँचे राजद विधायक…

बिहार विधानसभा में इस वक्त बजद सत्र चल रहा है। बजद सत्र के दौरान आए दिन हंगामा देखने को मिलता। बीते दिन विधान परिषद में नीतीश कुमार का बेहद रौद्र रुप देखने को मिला। दरअसल, जब से बिहार विधानसभा में बजद सत्र की शरुआत हुई है, तभी से अजीबोगरीब चीजें नजर आ रही हैं। कभी नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव बढ़ते पेट्रोल और डीजल के दाम के विरोध में साइकिल से विधानसभा आते हैं तो कभी किसान अंदोलन के सर्मथन में सदन पहुँचते हैं। इससे पहले भी बजद सत्र के पहले ही दिन कांग्रेस के विधायक अजीत शर्मा गैस सिलेंडर के साथ विधानसभा पहुंचे थे।

आपको बताते चलें, राजद के विधायक डॉ. मुकेश रौशन मंगलवार को आला और बीपी मशीन लेकर सदन जा पहुँचे। जिसके बाद उन्होंने खूब सूर्खियां बटौरी। जब मीडिया कर्मों ने उनसे सवाल किया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का ब्लड प्रेशर नापने के लिए मैं यह मशीन लेकर आया हूं। पूरा मामला सोमवार को हुए बिहार विधानपरिषद की कार्यवाही का है जहाँ नीतीश कुमार राजद एमएलसी पर आगबबूला हो गए थे। विधानपरिषद के भीतर जब तारांकित प्रश्न का जबाब ग्रामीण कार्य मंत्री दे रहे थे, उस समय आरजेडी एमएलसी सुबोध राय के खड़े होते ही नीतीश कुमार गुस्सा गए और बैठने को कहा। नीतीश कुमार ने सदस्यों को सदन के नियम-कानून जानने की बात कही। बिहार के मुखिया ने आगे कहा कि मैं जब खड़ा हूं तो आप बैठो.’ आरजेडी एमएलसी मोहम्मद फारुख ने सड़क की बदतर हालात पर सवाल किया था, जिसका जवाब ग्रामीण कार्य मंत्री जयंत राज दे रहे थे। मंत्री के जबाब के बाद जब माहम्‍मद फारुख दोबारा पूरक सवाल करने के लिए खड़े हुए तो आरजेडी एमएलसी सुबोध राय भी खड़े हो गए और अपना सप्लीमेंट्री सवाल करने लगे। बस फिर क्या था नीतीश कुमार अपनी सीट से उठकर हिदायत देने लगे कि पहले पूरक प्रश्न का जबाब मंत्री का हो जाना चाहिए फिर कोई सवाल करे।

सोमवार को नीतीश कुमार को नियमों को लेकर राजद के सदस्य को डांटने के अंदाज में समझाया था। इसके बाद से ही विपक्ष के नेता नीतीश कुमार पर उम्र के हावी होने और बीपी बढ़ने जैसी बात कहते दिखे थे। आपको बताते चलें, राजद से विधायक मुकेश रौशन आज सदन में बीपी की मशीन और आला के साथ पहुँचे और कहा कि नीतीश कुमार बहुत जल्दी गर्म हो जाते हैं, इसलिए उन्हें बीपी नपवाने की जरुरत है। बिहार विधानसभा में बजद सत्र की अवधी इस बार ज्यादा दिन तक रखी गई है। बता दें, इस बार का बजद सत्र 24 मार्च तक चलेगा और ये देखना खास रहेगा कि आने वाले दिनों कैसे विपक्ष सरकार पर सवाल खड़े करती है और सत्ता पक्ष के तरफ से क्या कुछ जवाब सामने आता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *