पुलिस ने बजाया ‘संदेश आते हैं’, तो किसान भड़क उठे…

किसानों की समस्या खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं। वो इसलिए क्योंकि 2 महीने से भी अधिक समय बीत चुके हैं लेकिन अब तक किसान अंदोलनरत हैं। आपको बता दें, 3 कृषि कानूनों को लेकर किसान विरोध किए जा रहे हैं। हजारों किसान दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डर पर लगातार डट कर खड़े हैं तो वहीं उत्तर प्रदेश सरकार ने भी प्रर्दशनकारियों को यूपी बॉर्डर से हटाने की बात कह दी है और जब से यूपी के मुख्यमंत्री ने ये आदेश जारी किया है तब से यूपी बॉडर पर पुलिस की तैनाती और भी ज्यादा बढ़ा दी गई है। वहीं दूसरी तरफ केंद्रीय गृह मंत्रालय ने टिकरी, गाजीपुर और सिंघू बॉर्डर पर इंटरनेट सेवा बंद कर दिया है।


लेकिन इस बीच ये खबरें आ रही हैं कि पुलिस सीमाओं पर डीजे बजा रही है। दरअसल, किसान संगठनों के तरफ से ये कहा गया है कि पुलिस जगह-जगह गाने बजा रही है। जिससे मजदूरों को काफी मुश्किल हो रही है और किसान संगठनों की ओर से इसको बंद करवाने की मांग की गई है। किसान मजदूर संर्घष समिती ने यह मांग की है कि डीजे को बंद किया जाए क्योंकि इससे उनको काफी परेशानियों की सामना करना पड़ रहा है। आपको बता दें, संदेशे आते हैं जैसे मशहूर गाने बजाए जा रहे हैं।

समिती ने इस संबंध में प्रेस रिलीज भी जारी किया है और एक वीडियो भी साझा किया है। समिती की प्रेस रिलीज में लिखा है कि केंद्र सरकार को सभी गिरफ्तार किए हुए किसानों को रिहा कर देना चाहिए, और जितनी भी बंद कि हुई सेवाएं हैं जैसा इंटरनेट,टॉयलेट इत्यादि से सरकार को प्रतिबंध हटाना चाहिए। आपको बताते चलें, गणतंत्र दिवस के दिन जिस तरह से किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा की घटना सामने आई थी, उस दिन भी दिल्ली के कई इलाकों में इंटरनेट सेवा अस्थायी तौर पर बंद कर दी गई थीं। हलाकिं,26 जनवरी को लाल किले पर जो घटना घटी, उसको लेकर पुलिस लगातार जाँच में जुटी है।

किसानों ने आरोप लगाया है कि 26 जनवरी की घटनाओं के बाद दंगाइयों के खिलाफ पुलिस के तरफ से कोई करवाई नहीं की गई। किसानों ने मांग की है कि आपराधियों के खिलाफ पुलिस को केस दर्ज करना चाहिए और उन्हें तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *