कोई भूखा न रहे यही ‘पहल इंडिया’ का उदेश्य है – डॉ.गुप्ता

देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण आम जनता को कई तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। इस महामारी ने लोगों को हर तरह से प्रभावित किया है आलम यह है कि गरीब जरूरतमंद और मजदूर तो रोज़मर्रा की आवश्यक ज़रूरतों को भी पूरा नहीं कर पा रहे हैं। इस बीच अगर कोई सबसे ज्यादा जोखिम उठाकर लोगों की मदद कर रहे हैं तो वे हैं स्वास्थ्यकर्मी और सामाजिक कार्यकर्ता।

देश के अलग-अलग हिस्सों से कुछ सकारात्मक पहल के अनूठे उदाहरण भी सामने आ रहे हैं, ऐसा ही एक उदाहरण महाराष्ट्र स्थित वर्धा नगर का है इस नगर में ‘पहल इंडिया’ नामक संस्था ‘एक भी व्यक्ति भूखा न रहे’ के उद्देश्य से अनवरत कार्य कर रही है। इस संस्था के संचालक डॉ.मुन्नालाल गुप्ता हैं जो वर्धा स्थित हिंदी विद्यापीठ में सहायक आचार्य पद पर कार्यरत हैं। पहल इंडिया द्वारा निर्धन, मजदूर, नि:शक्त आदि जरूरतमंद लोगों को सुबह-शाम अल्पहार प्रदान किया जाता है डॉ.गुप्ता अपने कुछ साथियों के साथ सुबह-सुबह इस मिशन पर निकल पड़ते हैं और नगर की गालियों,चौराहों,सड़कों पर जो भी जरूरतमंद मिलता है उसे फल,बिस्किट आदि प्रदान कर अपना सामाजिक दायित्व निभाते हैं।

डॉ गुप्ता कहते हैं, वर्धा नगर के श्रमिकों, बेसहारा लोगों, गरीबों, बुजुर्गों और जरूरतमंदों की मदद करना ‘पहल इंडिया’ की प्राथमिकता है। कोरोना महामारी से लड़ते हुए जरूरतमंदों तक भोजन पहुंचे हमारा यही उदेश्य है कोरोना वायरस रोग 2019 (कोविड-19) ने लाखों लोगों के जीवन में एक आर्थिक तबाही मचा दी है जो अनौपचारिक क्षेत्र में काम करते हैं,इनमें न केवल दिहाड़ी मज़दूर हैं बल्कि अनियमित अर्थव्‍यवस्‍था में काम करने वाले लोग भी शामिल हैं। पहल इंडिया की प्राथमिकता वर्धा नगर के श्रमिकों, बेसहारा लोगों, गरीबों और बुजुर्गों की मदद करना है। कोरोना महामारी से लड़ते हुए इन सभी तक भोजन पहुंचे हमारा यही उद्देश्य है।

पहला इंडिया परिवार की सादर अपील-

डॉ.गुप्ता ने पहल इंडिया परिवार के माध्यम से आर्थिक रूप से सम्पन्न लोगों से एक अपील की है वो लिखते हैं कि “पहला इंडिया परिवार पिछले वर्ष की भांति इस वर्ष भी कोरोना की दूसरी लहर के दौरान आर्थिक रूप से जरुरतमंद लोगों के लिए कार्य करना चाहता है जिसमें,कोरोना के कारण जिन परिवरों में कमानेवाले मुख्य सदस्य की असामयिक मृत्यु हो गई है उन जरूरतमंद परिवारों को लॉक डाउन के दौरान आर्थिक और आवश्यक वस्तुओं की सहायता ( राशन, अनाज जैसी आवश्यक चीजें ) प्रदान करना। लॉक डाउन के कारण सड़क पर मांगकर जीवन यापन करने वाले जरूरतमंदों तक भोजन/ फल/ बिस्किट आदि को यथा संभव पंहुचाना ताकि भूख के कारण किसी की मृत्यु न हो एवं Covid 19 से बचाव के लिए जरूरतमंद लोगों को मास्क, सेनिटाइजर आदि प्रदान करना शामिल है।डॉ.गुप्ता कहते हैं कि आप अपने सामर्थ्य के अनुसार मदद का हाथ बढ़ा पहल इंडिया परिवार का हिस्सा बन सकते हैं ताकि हम सब मिलकर इस महासंकट में ज़रूरतमंद लोगों के साथ खड़े हो सकें और अपने सामाजिक दायित्व को पूरा कर सकें।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *