युवाओं के लिए प्रेरणाश्रोत हैं ‘निक्षय’

मुम्बई शहर यानी की ख्वाबों की ताबीर का शहर, एक ऐसा शहर जहां हज़ारों लाखों लोग आंखों में ढ़ेर सारे सपने लिए रोज़ आते हैं।अपने सपनों को पूरा करने के लिए मायानगरी मुंबई में दिन रात कोशिशे करते हैं, वैसे ये शहर भी कोशिश करने वालों को कामयाबी का मज़ा ज़रूर चखाता है।यहां लाखों लोगों ने फुटपाथ से आलीशन घर तक का, फर्श से अर्श तक का, आम से खास तक का और अनजान से शोहरत तक का सफर तय किया है। देश भर के युवा मुम्बई अपने ढेरों सपने लेकर आते हैं और कईयो के सपने पूरे भी होते हैं। कुछ ऐसा ही हुआ निक्षय मौर्य के साथ। आम नौजवान की तरह निक्षय को भी फिल्मो से लगाव था और उनका मन फिल्मो में अभिनय करने का थाउन्होंने अपनी जिद्द और कठिन परिश्रम के बल पर बॉलीवुड में पहचान बनाई है। प्रकाश झा,विद्युत जामवाल,सौरभ शुक्ला,अरशद वारसी,निर्देशक राजीव रंजन दास,श्रुति हासन जैसे दिग्गजो के साथ काम कर चुके निक्षय मौर्य की शुरुआत बाल कलाकार के रूप में एक नागपुरी फ़िल्म से हुई,लेकिन अपने करियर की शुरुआत स्ट्रीट प्ले (नुक्कड़ नाटक) को मानते हैं,इन्हें इससे काफी प्रसिद्धि भी मिली। इसके बाद अपने अभिनय क्षमता को निखारने के लिए कई वर्षो तक थियेटर करते रहे और इंडिया टाइम्स जैसी संस्था से जुड़ कर कुमार संजय जैसे दिग्गज के दिशा निर्देशन में लगातार थियेटर करते रहे ।

एक फ़िल्म न कर पाने का अफसोस आज तक है-
तिग्मांशु धूलिया जैसे निर्देशक की फ़िल्म यारा में एक्टर विद्युत जामवाल और श्रुति हसन के साथ एक बेहतरीन रोल मिला जिसने निक्षय को बॉलीवुड में पहचान दिलाई । लिपिस्टिक अंडर माय बुरखा में भी एक बेहतरीन रोल ऑफर हुआ लेकिन कुछ पारिवारिक कारणों से सेट पर नहीं पहुंच पाने के कारण फ़िल्म हाथ से निकल गयी, जिसका अफसोस आज तक है। निक्षय हार न मानते हुए लगातार अपने संघर्ष को जारी रखा । कुछ दिनों में ही प्रकाश झा प्रोडक्शन की फ़िल्म फ्रॉड सइयां में अरशद वारसी और सौरभ शुक्ला के साथ एक बेहतरी रोल के रूप में एक सफलता हाथ लगी। रांची झारखंड के निक्षय बॉलीवुड के साथ साथ अपने क्षेत्रीय भाषा के फिल्मो के लिए लगातार कुछ न कुछ करते रहे हैं और वहाँ के कई हिट फिल्मों में बतौर लीड एक्टर काम किया। साथ ही कई अवार्ड विनिंग शार्ट फ़िल्म और डॉक्युमेंट्री भी बनाई है। बॉलीवुड के चर्चित निर्देशक राजीव रंजन दास के वेब सीरीज धुरंधर में भी बतौर मुख्य अभिनेता नज़र आने वाले हैं।

इंजीनियरिंग के बाद एक्टिंग क्यों-
निक्षय की बेसिक पढ़ाई लिखाई रांची में हुई फिर भोपाल से इंजीनियरिंग की लेकिन,इंजीनियरिंग के बाद एक्टिंग क्यों ?इस बात पर निक्षय कहते हैं पापा का सपना था मैं इंजीनियरिंग करू और मेरा सपना था एक्टिंग। इसीलिए पहले पापा का सपना पूरा किया अब अपना सपना पूरा कर रहा हूँ। लेकिन आज पापा सहित घर के तमाम लोग मेरे एक्टिंग करियर से ज्यादा संतुष्ट हैं,एक अख़बार में मेरी खबर देख सबकी धारणा बदल गयी।

सफलता मिलना कितना आसान रहा-
इस पर निक्षय कहते हैं लगन से किया गया हर कार्य सफल होता है।फिल्मों से लगाव के चलते अंदर का एक्टर अब डायरेक्टर बनने की ओर बढ़ने लगा और कई निर्देशको को असिस्ट किया,सिनेमा के बारीकियों को समझने के लिए कई प्रोजेक्ट में एक्जक्यूटिव प्रोड्यूसर के रूप में काम किया,कई शार्ट फ़िल्मो का निर्माण भी किया और बेस्ट डेब्यू डायरेक्टर सहित कई अवार्ड भी जीता।उनकी आने वाले प्रोजेक्ट में हैं दो गाने ,एक शॅट फिल्म दरमियां और एक वेब सिरीज़ धुरंधर। 1 जून को उन्होंने अपना जन्मदिन अपने परिवार और अच्छी दोस्त एक्ट्रेस शिखा के साथ मनाया ।जिसमें उनकी सिरीज़ कि क्रिएटिव डायरेक्टर पूजा शर्मा और पॉड ओरिजिनल के सीईओ कुमार गौरव भी शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *