लॉकडाउन के दौरान घरेलू हिंसा की शिकायतों में बढ़ोतरी जारी – राष्ट्रीय महिला आयोग

गत वर्ष लॉकडाउन के दौरान जब ज्यादातर लोग घरों में बंद थे,राष्ट्रीय महिला आयोग को मिलने वाली घरेलू हिंसा की शिकायतों की संख्या में 2019 के मुकाबले वृद्धि देखने को मिली जो 2021 तक बरक़रार है आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2019 में आयोग को घरेलू हिंसा से संबंधित 2,960 शिकायतें मिली थीं जबकि 2020 में 5,297 शिकायतें प्राप्त हुईं और यह सिलसिला अब भी रुकने नाम नहीं ले रहा है.आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, वर्ष 2019 में आयोग को महिलाओं के विरुद्ध किए गए अपराध की कुल 19,730 शिकायतें मिलीं, जबकि 2020 में यह संख्या 23,722 पर पहुंच 2021 में भी लगातार इन आकड़ों में वृद्धि देखी जा रही है.राष्ट्रीय महिला आयोग के आंकड़ों के अनुसार, जनवरी 2021 से 25 मार्च 2021 के बीच महिलाओं के विरुद्ध हिंसा की 1,463 शिकायतें प्राप्त हुईं.लॉकडाउन लगाए जाने के बाद आयोग को घरेलू हिंसा की इतनी शिकायतें मिलने लगी थीं कि आयोग ने इसके लिए समर्पित एक वॉट्सऐप नंबर की शुरुआत भी की थी उस समय आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा था कि-आर्थिक असुरक्षा, तनाव में वृद्धि, वित्तीय समस्याएं और परिवार की ओर से मिलने वाले भावनात्मक समर्थन की कमी वर्ष 2020 में घरेलू हिंसा की घटनाओं में बढ़ोतरी का कारण हो सकते हैं.

महिला अधिकार कार्यकर्ता,योगिता भयाना ‘पीपुल अगेंस्ट रेप इन इंडिया’ (परी) नामक संस्था की अध्यक्ष हैं वो इस बारे में कहती हैं कि- इस तरह की घटनाओं में वृद्धि दर्ज हुई है क्योंकि महिलाओं में भी जागरूकता बढ़ रही है. वे इसकी रिपोर्टिंग कर रही हैं और इसके बारे में बात कर रही हैं. पहले वे अपनी शिकायतों को दबाती थीं बता दें कि बीते दिसंबर में राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) ने एक रिपोर्ट जारी किया था, जिसमें कहा गया था कि पांच राज्यों की 30 फीसदी से अधिक महिलाएं अपने पति द्वारा शारीरिक एवं यौन हिंसा की शिकार हुई हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *