गोपालगंज ट्रिपल मर्ड’र केस को लेकर तेजस्वी ने किया बड़ा खुलासा, क्या सीएम नीतीश अब कार्रवाई करेंगे ?

Desk: गोपालगंज ट्रिपल म’र्डर को लेकर मंगलवार की सुबह नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर JDU विधायक अमरेन्द्र पांडे के विरुद्ध वीडियो साक्ष्य प्रस्तुत किया। इस दौरान नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने मांग की है कि बिहार सरकार जदयू विधायक अमरेंद्र पांडेय उर्फ पप्पू पांडेय के तीन महीने का कॉल डिटेल निकाले। साथ ही उनके मोबाइल में व्हाट्सएप मैसेज का विवरण निकाले। तेजस्‍वी ने कहा कि यदि बिहार पुलिस जदयू विधायक पप्पू पांडेय को गिर’फ्तार कर लेती है तो कई घटनाओं से पर्दा उठ जाएगा।

तेजस्वी ने कहा ‘हम माननीय मुख्यमंत्री जी से पूछते है वो एक समय सीमा बताए कि SIT जाँच कर कब तक बाहुबली विधायक को गिर’फ़्तार करेगी? अगर समय सीमा नहीं बताई गयी तो आंदोलन होगा। एक ख़ूँ’ख़ार ह’त्यारे विधायक के विरुद्ध ह’त्या के साक्ष्य सहित अनेक गंभी’र मामले दर्ज है लेकिन गिर’फ़्तार क्यों नहीं होता? मुख्यमंत्री को सामने आकर स्पष्टता से सरकार की बाध्यता और कारवाई के बारे में अवगत कराना चाहिए। डीजीपी ने इस आतं’की प्रवृति के विधायक के घिनौ’ने कृ’त्यों पर कोई व्यक्तवय क्यों नहीं दिया है। DGP गोपालगंज क्यों नहीं गए?’

अमरेन्द्र पांडे

नेता प्रतिपक्ष ने कहा पप्पू पांडेय की तीन महीने की कॉल डिटेल्स और यदि संभव हो तो Whatsapp कॉल्स का भी Log खंगाला जाए। पता लग जाएगा कौन उसे बचा रहा है? सब जानते है IG रहते किस अधिकारी ने इस दुर्दां’त विधायक को अनेक केस से बरी करा अपराध करने के लिए प्रोत्साहित किया? मुख्यमंत्री अपने नकारा, पक्षपाती और भ्रष्ट अधिकारियों पर कारवाई करने के लिए किस शुभ मुहूर्त का इंतज़ार कर रहे है?

तेजस्वी ने कहा कि इस मामले में बीजेपी की भी चुप्पी सवाल खड़े करती है क्योंकि बीजेपी ने इस मामले में चुप्पी साध रखी है जबकि पप्पू पांडे ने उनके नेताओं की भी धम’की दी थी और ह’त्या भी करवाई है। तेजस्वी ने कहा कि सतीश पांडेय के शूटर ने UP STF के समक्ष कबूल भी किया था कि वो गोपालगंज में कई लोगों की ह’त्या कर चुका है फिर भी कार्रवाई नहीं हुई।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान तेजस्वी ने अपराध के कई घटनाओं का ज़िक्र किया।

  1. गोपालगंज के व्यवसायी रामाश्रय सिंह कुशवाहा का एक साल पहले म’र्डर हुआ हुआ था लेकिन अभी तक कोई कारवाई नहीं हुई। वीडियों में रामाश्रय सिंह कुशवाहा के भाई अपनी व्यथा और आपबीती सुना रहे है।
  2. बीजेपी के वरिष्ठ नेता शिव कुमार उपाध्याय ने आरोप लगाया था कि जेडीयू विधायक पप्पू पांडेय उन्हें गो’लियों से छलनी करना चाहते हैं। आरोप है कि पप्पू पांडेय ने शिव कुमार के काफिले को रोककर उन्हें गो’लियों से छल’नी करने की धमकी दी थी। इस वीडियो में आप देख सकते है। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हुआ था।
  3. कुछ दिन पहले अनिल तिवारी की ह’त्या हुई। उसे कौन हॉस्पिटल लेकर गया? इस video में जो आवाज़ है उसका सैम्पल लेकर जाँच होनी चाहिए? दोषी स्वयं पकड़ा जाएगा। इसे गो’ली लगी नहीं बल्कि प्राइवेट पार्ट पर गो’ली मारी गयी। पुलिस पता करे अन्यथा और भी सबूत है।
  4. गोपालगंज के वरिष्ठ बीजेपी नेता कृष्णा शाही की ह’त्या जेडीयू के बाहुबली विधायक पप्पू पांडेय ने की, पर अबतक कोई कार्रवाई नही हुई। स्वर्गीय कृष्णा शाही की पत्नी आदरणीय श्रीमती शांता शाही और परिवार को न्याय मिलना चाहिए। उनका विडीओ भी काफ़ी वाइरल हुआ है। सुशसानी सरकार ह’त्यारे विधायक के पापों को अनदेखा क्यों कर रही है? यूपी की STF की एक रिपोर्ट में विधायक के गिर’फ़्तार शूटर पप्पू श्रीवास्तव ने स्वीकारा कि इन्होंने कृष्णा शाही की ह’त्या करवाई।
  5. गोपालगंज के हथवा प्रखंड मुख्यालय में ही व्यवसायी अनिल साह की ह’त्या हुई थी। इस मामले में भी जेडीयू विधायक पप्पू पांडेय और उनके परिजनों के खिलाफ मुक’दमा दर्ज हुआ था। अनिल साह के परिजनों का आरोप था है कि पप्पू पांडेय ने 50 लाख रुपये रंगदारी मांगी थी, लेकिन इसकी पूर्ति नहीं कर पाने के चलते ह’त्या कर दी गई। अब तक इस केस में उसे’क्यों बचाया जा रहा है?
  6. राजकुमार शर्मा हथुवा स्टेशन माल गोदाम परिसर में 6 महीना पहले म’र्डर हुआ ये गिट्टी के बहुत बड़ा व्यपारी थे रंग’दारी के लिए ह’त्या हुई।
  7. अरुण सिंह पूर्व मुखिया का 7 महीना पहले जिगना ढाला पर म’र्डर किया गया।
  8. उपेंद्र सिंह कुशवाहा की मटिहानी मीरगंज में 9 महीना पहले पिपरा में ह’त्या की गयी। इनकी पत्नी जिगना पंचायत की वर्तमान मुखिया है।
  9. अभी हाल में जेपी चौधरी, शंभु मिश्रा, मुन्ना तिवारी और अनिल तिवारी की ह’त्या हुई। इन सभी ह’त्याओं को एक ही ढंग से अंजाम दिया गया। पहले रंगदारी माँगी जाती है नहीं देने पर कुछ अपरा’धी दो बाइक पर आते है, ताबड़तोड़ गो’लियाँ चलाते है। ह’त्या कर फ़रार हो जाते है। और फिर भ्रष्ट पुलिस अपरा’धियों को बचाती है।
  10. सरकारी पदाधिकारी अख्तर की पत्नी ने पप्पू पांडेय पर आरोप लगाया था कि इन्होंने पहले उनके पति का अपहर’ण किया फिर रिहाई के एवज में 55 लाख रुपये लिए थे।
  11. एक कंस्ट्रक्शन कंपनी के कार्यकारी निदेशक अखिलेश कुमार जायसवाल ने आरोप लगाया है कि पप्पू पांडेय ने उनसे 50 लाख रुपये की रंग’दारी मांगी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *