ADG के लेटर पर बबाल, नीतीश को तेजस्वी की चुनौती है हिम्मत तो मुझे करे गिरफ्तार…

बिहार पुलिस मुख्यालय के तरफ से आर्थिक अपराध इकाई के तरफ से एक पत्र जारी किया गया । जिसमे ये बताया गया है की अब किसी भी सरकारी अधिकारी , पदाधिकारी , मंत्री या नेता किसी के खिलाफ कुछ भी बयानबाज़ी किया गया तो उनपर कार्यवायी की जाएगी। बिहार में सोशल मीडिया पर मंत्री, सांसद, विधायक, अधिकारी और कर्मचारी के साथ किसी अन्य व्यक्ति के खिलाफ अनाप-शनाप टिप्पणी पर अब कानूनी कार्रवाई होगी। आपको बता दे की आज एक लेटर जारी किया गया और आज ये लेटर बिहार की सियासत में भूचाल मचा दिया है इसको लेकर तमाम मंत्री या नेता बयानवाजी कर रहे है। दरअसल इस लेटर को लेकर सत्ता पक्ष के लोग स्वागत कर रहे है वही विपक्ष के लोग सरकार को घेरते नज़र आरहे है।

बता दे ADG के तरफ से एक पत्र जारी किया गया है। जिसको लेकर बिहार की सियासत गरमा गयी है जहाँ तमाम विपक्ष के नेता सरकार पर निशाना साध रहे। वही सत्ता पक्ष के तरफ से समर्थन दिया जा रहा है। आजकल तमाम दिग्गज नेताओ ,सरकारी अधिकारी , मंत्री या नेताओ पर नकारात्मक पोस्ट करेंगे उसपर कार्यवाई होगी। आजकल सोशल मीडिया के तरफ से नकारात्मक फ़ैलाने वाले पोस्ट किये जा रहे है। जब कानूनी करवाई की बात सामने आयी तो इसको लेकर बिहार में सियासी उबाल आ गया है।

विपक्ष के हमलावर रूख के बाद सरकार की तरफ से सफाई आ गई है। ईओयू जिसकी तरफ से इस संबंध में आदेश जारी किया गया उसके एडीजी सफाई में आगे आये हैं। उन्होंने कहा है कि ईओयू की तरफ से जो पत्र जारी की गई है वह सिर्फ जानकारी देने के लिए भेजा गया है. अगर मामला बनेगा तब ही कार्रवाई होगी.एडीजी नैयर हसनैन खान ने बताया कि विभाग के अधिकारी नोडल एजेंसी को अप्रोच कर सकते हैं.कानून सम्मत कार्रवाई उन्ही मामलों में होगी जो संज्ञेय अपराध की श्रेणी में आते हैं.इसके अलावे किसी दूसरेमामले में कोई एक्शन नहीं होगा

पत्र के बाद तेजस्वी यादव ने लगातार सीएम नीतीश पर सोशल मीडिया के जरिये हमलावर है और ट्वीट कर सीधे नितीश को घेर लिया है। सीएम नीतीश को खुली चुनौती दी है। उन्होंने कहा है कि 60 घोटालों के सृजनकर्ता नीतीश कुमार भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह, दुर्दांत अपराधियों के संरक्षकर्ता, अनैतिक और अवैध सरकार के कमजोर मुखिया है। बिहार पुलिस शराब बेचती है। अपराधियों को बचाती है निर्दोषों को फँसाती है। CM को चुनौती देता हूँ- अब करो इस आदेश के तहत मुझे गिरफ़्तार। तेजस्वी ने आगे लिखा है कि हिटलर के पदचिन्हों पर चल रहे मुख्यमंत्री की कारस्तानियां *प्रदर्शनकारी चिह्नित धरना स्थल पर भी धरना-प्रदर्शन नहीं कर सकते *सरकार के ख़िलाफ लिखने पर जेल *आम आदमी अपनी समस्याओं को लेकर विपक्ष के नेता से नहीं मिल सकते नीतीश जी, मानते है आप पूर्णत थक गए हैं, लेकिन कुछ तो शर्म कीजिए.

बता दे बीते दिन यानि गुरुवार को ADG ईओयू एनएच खान ने सभी विभागों के प्रधान सचिव और सचिव को पत्र लिखकर कहा है कि उनके अधीन किसी अधिकारी-कर्मचारी के खिलाफ ऐसा कोई पोस्ट सामने आता है तो तुरंत इसकी जानकारी दें। इसे सोशल मीडिया का दुरुपयोग मानते हुए जांच की जाएगी और आईटी एक्ट के तहत पोस्ट डालनेवाले के खिलाफ कानूनी कार्रवाई होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *