एक मंडप,एक युवक पर दो लड़कियों – अजब शादी की गजब कहानी

कहते हैं जब दो लोग शादी करते हैं तो शादी दो लोगों के बीच नहीं ब्लकि दो परिवारों के बीच होती है। कहा तो ये भी जाता है की जोड़ियाँ ऊपर वाले बना कर भेजता है, लेकिन ये सारी कहावत अब गलत होते नजर आ रहीं है। अब आप भी सोच रहे होगें आखिर हम ऐसा क्यों बोल रहे हैं? दरअसल, छत्तीसगढ़ में एक ऐसी ही अजब-गजब सी शादी का मामला सामने आया है। बता दे, दोनों ने महिलायों ने अपनी पूरी रजामंदी से एक ही युवक से विवाह रचा लिया।

बस्तर जिले के टिकरालोहंगा में रहने वाले एक युवक ने रविवार को दो लड़कियों के साथ एक ही मंडप में एक साथ अग्नि को साक्षी मानकर सात फेरे लिए। शादी के निमंत्रण पत्र में दोनों लड़कियों का नाम छपवाया गया। दरअसल, तीनों ही पिछले एक साल से लिव-इन रिलेशन में रह रहे थे। इस अनोखी शादी में शामिल होने वालों में भी खासा उत्साह था। जनजातीय परंपरा में इसको मान्यता है। समाज ने उनके बीच बेहतर तालमेल को देखते हुए शादी की इजाजत दी। बता दें एक लड़की का नाम हसीना बेघल और दूसरी का नाम सुंदरी कश्यप है। वहीं लड़के का नाम चंदू र्मोया है और लड़का पेशी से खेती करता है। आपको बता चलें तीनों के अच्छे तालमेल को देखते हुए समाज ने शादी की मंजूरी दे दी।

सुंदरी के साथ उसके प्रगाढ़ प्रेम की जानकारी हसीना के अलावा तीनों परिवार के लोगों को हो गई। बात जब विवाह करने की आई तो चंदू ने दोनों लड़कियों के साथ शादी करने का प्रस्ताव परिजनों के समक्ष रखा। उसका कहना है कि वह दोनों से ही दिलो जान से प्रेम करता है और किसी को छोड़ना नहीं चाहता है। लड़कियों के परिजनों ने भी विवाह की मंजूरी दे दी क्योंकि युवतियों ने एक-दूसरे के साथ रहने की हामी भर दी थी। तीनों एक वर्ष से एकसाथ रह रहे थे। मुरिया जनजाति में बहु विवाह की प्रथा है। भारतीय संवैधानिक और कानूनी व्यवस्था भी जनजाति से जुड़े लोगों को बहु विवाह को मान्यता देती है।

दरअसल, तीनों में मोबाइल के जरिए कांफ्रेस पर बातें होती थी। इस दौरान उनको एक दूसरे को जानने का मौका मिला और शादी से पहले ही तीनों में बात हो गई। चंदू ने दोनों लड़कियों के साथ शादी करने की इच्छा जाहिर की। तीनों परिवार भी इसके लिए राजी हो गए। टिकरालोहंगा में तीन जनवरी को शादी का आयोजन हुआ। चंदू ने दोनों लड़कियों के साथ एक ही मंडप में एक ही साथ सात फेरे लिए। गांव में उसी दिन रिसेप्शन (भोज) का आयोजन भी किया गया। रिसेप्शन में दो दुल्हन और एक दूल्हे के बैठने के लिए स्टेज की व्यवस्था भी गई थी। तीनों एक साथ एक ही स्टेज में बैठे। ग्रामीणों समेत अन्य लोगों ने भी तीनों को विवाह की बधाई दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *