बोले मुख्यमंत्री लापरवाही बरती तो करूँगा बड़ी कार्यवाही, जिले के कप्तान और जिलाधिकारी पर।

लखनऊ: कोरोना वायरस के संबंध में अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी एवं प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने गुरूवार को संयुक्त रूप से यहां लोकभवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लॉकडाउन के दूसरे चरण का सख्ती से पालन करने का निर्देश दिया है। लापरवाह अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का भी आदेश सीएम योगी ने दिया है और कोरोना संदिग्ध मिलने पर थाना प्रभारियों की जवाबदेही भी तय करने को कहा है। मुख्यमंत्री ने प्रदेश के सभी डीएम व एसपी को स्पष्ट निर्देश दिया है कि किसी भी सूरत में लॉकडाउन के नियमों का उल्लघंन ना हो। ऐसा होने पर उनके खिलाफ भी कार्रवाई होनी तय है। इसके साथ ही सीएम योगी ने लॉकडाउन का सख्ती व गंभीरता से पालन करने के लिए प्रदेशवासियों से अपील की है।

अपर मुख्य सचिव, गृह ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लॉकडाउन के कारण अपने सरकारी आवास पर ही हर सुबह टीम 11 के सदस्यों के साथ बैठक करते थे। लेकिन गुरूवार को सीएम योगी ने लोकभवन आकर इस टीम के साथ बैठक कर कई निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देशित किया है कि लॉकडाउन के दूसरे चरण के संबंध में केंद्र सरकार की गाइड लाइन के अनुसार ही कार्ययोजना तैयार करें। 20 अप्रैल तक हर हाल में कार्य योजना तैयार कर इसकी समीक्षा भी कर ली जाए।

अपर मुख्य सचिव, गृह ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के हॉटस्पॉट क्षेत्रों की समीक्षा की है। उन्होंने निर्देश दिया है कि हॉटस्पाट क्षेत्रों के हर घर को सैनीटाइज किया जाए। साथ ही डोर स्टेप डिलीवरी की भी गंभीरता से निगरानी हो। राशन, दूध, सब्जी, फल और दवाओं की कमी ना हो इसकी समीक्षा अधिकारी लगातार करते रहें। अपर मुख्य सचिव, गृह ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुरादाबाद में हुई घटना की घोर निंदा की है। साथ ही घटना के दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आदेश दिया था। जिसके संबंध में पुलिस द्वारा वीडियो फुटेज के आधार पर 17 आरोपियों की पहचान कर उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। साथ ही इनके खिलाफ एनएसए के तहत केस भी दर्ज किया गया है। आरोपियों द्वारा सरकारी संपत्ति नष्ट किए जाने पर इन्हीं से भरपाई कराने का आदेश मिला है। भरपाई नहीं करने पर इनकी संपत्ति जब्त करने का निर्देश सीएम योगी ने पुलिस विभाग को दिया है।

अपर मुख्य सचिव, गृह ने बताया कि उम्मीद है कि पीलीभीत की तरह महाराजगंज भी कोरोना के प्रभाव से बाहर निकलने में जल्द ही सफल होगा। उन्होंने बताया कि महाराजगंज में कोरोना पॉजिटीव के 6 केस सामने आए थे। सभी का उपचार किया जा रहा था। उपचार के दौरान सभी 6 लोगों की पहली जांच रिपोर्ट निगेटीव मिली है। दूसरी रिपोर्ट अगर निगेटीव आती है कि तो यह शासन के लिए बड़ी सफलता होगी।

अपर मुख्य सचिव, गृह ने बताया कि मुख्यमंंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया है कि जो लोग शासन द्वारा क्वारंटीन होने के बाद 14 दिन पूरे कर लिए हैं। उन्हें घर भेज दिया जाए। हालांकि उन्हीं लोगों को घर भेजा जा रहा है जो उसी जनपद या आसपास जनपदों के निवासी हैं। प्रदेश के बाहर वालों के लिए अभी फैसला नहीं लिया गया है। अब जो घर जा रहे हैं उन्हें होम क्वारंटीन रहने का निर्देश मिला है। साथ ही सीएम हेल्प लाइन से ऐसे लोगों की निगरानी करने का आदेश भी मुख्यमंत्री योगी ने दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *