दिल्ली के लोगों लिए बड़ी खबर।

नई दिल्ली, लॉकडाउन के 13 दिनों में राजधानी का प्रदूषण 57.64 प्रतिशत कम हुआ है जो एक खुशखबरी से कम नहीं है। देश के सबसे प्रदूषित शहरों में भी अब हवा तय मानकों को पूरा कर रही है साफ ओर जहर मुक्त हो गई है लगभग । हालांकि अब भी एनसीआर के शहरों की हवा डब्ल्यूएचओ के पैमाने पर खरी नहीं है। ग्रीनपीस ने यह रिपोर्ट जारी की है।इस रिपोर्ट में देश के 25 प्रदूषित शहरों का आकलन किया गया है। यह आकलन 24 मार्च से 4 अप्रैल 2019 और 2020 के दौरान किया गया है। ग्रीन पीस ने अपनी रिपोर्ट वर्ल्ड एयर क्वॉलिटी-2019 में दावा किया था कि दुनिया के 25 प्रदूषित शहरों की लिस्ट में 17 शहर भारत के हैं। इनमें गाजियाबाद सबसे ऊपर था। उसके बाद नोएडा, गुरुग्राम, ग्रेटर नोएडा को टॉप 10 प्रदूषित शहरों में शामिल किया गया था। जबकि इस रिपोर्ट में दिल्ली को पांचवां स्थान मिला था।

ग्रीन पीस के अनुसार, सीपीसीबी डेटा के आधार पर इस बार हमने देश के 14 सबसे प्रदूषित शहरों का आकलन किया है। इनमें से आधे शहरों में प्रदूषण 50 प्रतिशत से भी अधिक कम हुआ है जिनमें गाजियाबाद, दिल्ली, नोएडा, गुरुग्राम, ग्रेटर नोएडा, लखनऊ, बुलंदशहर, मुजफ्फरनगर, फरीदाबाद और पलवल शामिल हैं। जानकार बताते हैं कि अगर लाकडाउन दिल्ली में और बढ़ा तो अब फिर पूरी तरह से दिल्ली की हवा जहर मुक्त हो जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *