आ रहा भयानक तूफान: बारिश के साथ 195 किमी की रफ्तार से चल सकती है हवाएं।

नई दिल्ली: ‘अम्फान’ तूफान अब सुपर साइक्लोन (super cyclone) में तब्दील हो चुका है। अब ये तूफान पश्चिम बंगाल और ओडिशा की ओर तेज रफ्तार से बढ़ रहा है। मौसम विभाग ने अनुमान जताया है कि सुपर साइक्लोन में तब्दील हो चुका अम्फान उफान पर पहुंचकर भारी तबाही मचा सकता है। मौसम विभाग के मुताबिक, अम्फान तूफान आज दोपहर से शाम तक बंगाल की खाड़ी से उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ सकता है। कहा जा रहा है कि यह तूफान साल 2014 में आए ‘हुदहुद’ साइक्लोन से भी काफी भयावह और विध्वंसक हो सकता है।
पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश के तट से टकराएगा अम्फान
अम्फान 19-20 मई को पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश के बीच दीघा और हटिया द्वीप (बांग्लादेश) समूह से टकरा गया है जिसका असर गुरुवार तक रह सकता है। किसी तरह के जान माल की हानि को रोकने के लिए NDRF की 53 टीमें तैनात की गई हैं। एहतियातन तटीय गांव खाली कराए जा रहे हैं। मच्छुआरों और लोगों को समुद्र के किनारे न जाने की सलाह दी गई है। इसके अलावा रेल और बस सेवाओं के रूट बदल दिए गए हैं।इन जिलों में जारी हुआ ऑरेंज अलर्ट।अम्फान की गंभीरता को देखते हुए मौसम विभाग ने पूर्वी तटों के राज्य तमिलनाडु और पुडुचेरी के अलावा आंध्र प्रदेश, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, मिजोरम, मणिपुर और आसापास के तटीय क्षेत्रों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। वहीं ओडिशा के तटीय जिले को हाई अलर्ट पर रखा गया है।21 मई तक यहां जारी होगी भारी बारिश मौसम विभाग ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। यहां पर यह चक्रवाती तूफान भयंकर तबाही मचा सकता है। मौसम विभाग ने कहा है कि ओडिशा, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम और मेघालय में 21 मई तक भारी बारिश और आंधी-तूफान की संभावना है। मौसम विभाग ने दक्षिण और उत्तर परगना, पश्चिम और पूर्व मेदिनीपुर, हुगली, हावड़ा और कोलकाता जैसे पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों में 19 मई से बारिश शुरू होने की आशंका जताई है।
यहां होगी भारी तबाही
मौसम विभाग के डीजी एस.एन. प्रधान के मुताबिक, पश्चिम बंगाल में पूर्वी मिदनापुर, दक्षिण और उत्तर 24 परगना, हावड़ा, हुगल और कोलकाता के इलाकों में तूफान का अत्यधिक असर देखने को मिल सकता है। वहीं ओडिशा की बात की जाए तो जानकारी के मुताबिक ओडिशा में जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, भद्रक और बालासोर जिलों में चक्रवात का ज्यादा असर होगा। दोनों राज्यों के तटीय इलाकों में रेल और रोड ट्रांसपोर्ट 20 मई तक बंद रखने का फैसला किया गया है।
चक्रवात तूफान को देखते हुए ओडिशा और पश्चिम बंगाल की सरकार सतर्क है और जरूरी कदम उठा रही हैं। पश्चिम बंगाल और ओडिशा सरकार तटीय इलाकों से लोगों को बाहर निकाल कर सुरक्षित जगहों पर पहुंचा रही है।
चक्रवात तूफान को देखते हुए एयरफोर्स के सी-131 विमानों को भी तैयार रहने को कहा गया है। जरूरत पड़ने पर सेना की भी मदद ली जाएगी। NDRF की टीमें राज्यों में अलर्ट रखा गया है। पश्चिम बंगाल में एनडीआरएफ की टीमों को तैनात कर दिया गया है। इसके अलावा चार टीमों को स्टैंड बाई पर रखा गया है। जबकि ओडिशा में 13 टीमें तैनात हैं और 17 टीमें स्टैंड बाई पर है।
तेजी से बढ़ रहा साइक्लोन
IMD के मुताबिक चक्रवात अम्फान ने सुपर साइक्लोन का रूप ले लिया है। अम्फान दक्षिण खाड़ी के मध्य भागों में 6 घंटे के दौरान 13 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उत्तर/उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ गया है। जो पश्चिम बंगाल, ओडिशा और बांग्लादेश के तटों से 20 मई को टकराएगा। बताया जा रहा है कि इस दौरान हवा 155-165 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से बहेगी। इस तूफान के चलते भारी नुकसान का अनुमान है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *